शिवराज की नर्मदा यात्रा पर लगे घोटाले के आरोप, कैग रिपोर्ट में उठे सवाल
Jabalpur News in Hindi

शिवराज की नर्मदा यात्रा पर लगे घोटाले के आरोप, कैग रिपोर्ट में उठे सवाल
कैग रिपोर्ट के बाद शिवराज सिंह चौहान की नर्मदा यात्रा को लेकर हमलावर हुई कांग्रेस

शिवराज सिंह चौहान (Shivraj singh Chouhan) द्वारा निकाली गई नर्मदा यात्रा (Narmada Yatra) में घोटाले (Scam) के आरोप लग रहे हैं. कैग रिपोर्ट (CAG report) में यात्रा पर किए गए खर्च का ब्यौरा नहीं मिलने पर आपत्ति जताने के बाद कांग्रेस (Congress) हमलावर हो गई है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल. विधानसभा चुनाव (Assembly elections) से पहले सूबे में शिवराज सरकार (Shivraj singh chouhan Government) में नर्मदा संरक्षण के नाम पर हुई नर्मदा यात्रा (Narmada Yatra) में घोटाले की बात निकलकर सामने आ रही है. कैग ने अपनी ऑडिट रिपोर्ट (Audit Report) में यात्रा पर किए गए खर्च का ब्यौरा नहीं मिलने पर आपत्ति जाहिर की है. रिपोर्ट में बताया गया है कि नर्मदा यात्रा पर 21 करोड़ रुपए बिना अनुमति खर्च किए गए जिसमें से 18 करोड़ के खर्च का हिसाब किताब गायब है. रिपोर्ट में ये भी बात सामने आई है कि खर्च के लिए जन अभियान परिषद ने नियमों के तहत मंजूरी भी नहीं ली थी. इस खुलासे के बाद अब कांग्रेस बीजेपी पर हमलावर हो गई है. वहीं बीजेपी ने कांग्रेस को जांच की चुनौती दे दी है.

कैग रिपोर्ट की आपत्तियां..
>> जनअभियान परिषद ने अपने उद्देश्य से हटकर 21 करोड़ रुपए खर्च किए
>> प्रदेश के 40 जिलों के कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ को 21.67 करोड़ रुपए आवंटित किए गए थे, इनमें से केवल नौ कलेक्टरों ने 3.79 करोड़ का उपयोगिता प्रमाण पत्र भेजा बाकी 31 कलेक्टरों ने 18 करोड़ रुपए खर्च करने का अब तक हिसाब नहीं दिया



>> अकेले अमरकंटक में नर्मदा सेवा यात्रा के एक कार्यक्रम में केवल ट्रांसपोर्टेशन पर करीब 13 करोड़ का खर्च बताया गया है
>> नर्मदा सेवा यात्रा बसों को ज्यादा भुगतान की बात भी सामने आई है



News - सीएजी ने नर्मदा यात्रा का हिसाब किताब न दिए जाने को लेकर आपत्ति जताई है
सीएजी ने नर्मदा यात्रा का हिसाब किताब न दिए जाने को लेकर आपत्ति जताई है


इन ज़िलों से होकर निकली थी नर्मदा यात्रा
तब की बीजेपी सरकार में नर्मदा यात्रा 16 जिलों से होकर निकली थी और इसमें नर्मदा संरक्षण के बड़े-बड़े दावे किए गए थे. ये यात्रा अलीराजपुर, धार, खरगोन, देवास, सीहोर, रायसेन, डिंडोरी, अनूपपुर, सिवनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, हरदा, होशंगाबाद, खंडवा, बड़वानी और खरगोन ज़िलों से होकर निकली थी. यात्रा के दौरान जनअभियान परिषद की ओर से किए गए खर्च को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं.

आमने-सामने बीजेपी-कांग्रेस
कैग रिपोर्ट के बाद इस मामले में अब बीजेपी और कांग्रेस आमने सामने आ गए हैं. कांग्रेस नेता माणक अग्रवाल की मानें तो कैग की रिपोर्ट बताती है कि यात्रा में किस तरह जनता के पैसों की बरबादी हुई. उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई ज़रूर होगी. वहीं दूसरी तरफ बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा है कि सरकार कैग की रिपोर्ट पर कार्रवाई करे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा.

ये भी पढ़ें -
खंडवा में ज़मीन के अंदर हलचल और तेज़ धमाके, कई घरों की दीवारों में आईं दरारें
रतलाम: विवाहिता का अपहरण कर गैंगरेप, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा फिर जहर देकर सड़क पर फेंका
First published: October 9, 2019, 12:19 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading