NEET आज: 58860 परीक्षार्थियों के लिए MP में बने 144 एग्जाम सेंटर, इस तरह मिलेगी एंट्री
Bhopal News in Hindi

NEET आज: 58860 परीक्षार्थियों के लिए MP में बने 144 एग्जाम सेंटर, इस तरह मिलेगी एंट्री
रविवार को देशभर में नीट परीक्षा का आयोजन होगा

कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के खतरे के चलते सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा ली जाएगी. हर परीक्षार्थी के बीच 6 फीट की दूरी होगी.

  • Share this:
​भोपाल. मेडिकल संस्थानों में प्रवेश के लिए 13 सितंबर यानी आज नीट (NEET) आयोजित हो रहा है. नीट के लिए इस बार मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) से 58,860 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया है. इनके लिए प्रदेश भर में एग्जाम 144 सेंटर बनाए गए हैं. 2019 की तुलना में 2020 में छात्रों की संख्या बढ़ी है. इस बार 4406 ज्यादा छात्र परीक्षा में शामिल हो रहे हैं. प्रदेश भर में इस बार 60 परीक्षा केन्द्र बढ़ाये गए है. नीट से प्रदेश के 13 मेडिकल कॉलेज, 15 डेंटल कॉलेज और 42 आयुष कॉलेजों में छात्रों को प्रवेश मिलेगा.

कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के खतरे के चलते सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा ली जाएगी. हर परीक्षार्थी के बीच 6 फीट की दूरी होगी. परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले छात्रों की थर्मल स्क्रीनिग कर तापमान चेक किया जाएगा. मास्क लगाना अनिवार्य होगा. कैंडिडेट्स को मास्क परीक्षा केंद्र पर ही दिया जाएगा. बीच बीच मे हाथ साफ करने छात्र इस बार सेनेटाइज़र की बोतल परीक्षा केंद्र पर साथ ले जा सकेंगे. छात्रों के एडमिट कार्ड की जांच बार कोड रीडर के माध्यम से की जाएगी. मेटल डिटेक्टर से छात्रों की चेकिंग की जाएगी. कोरोना महामारी के चलते इस बार पानी की बॉटल ले जाने की अनुमति दी गयी है. दिव्यांग छात्रों को दिव्यांगता प्रमाण पत्र खुद स्क्राइब करना होगा. स्क्राइब को शैक्षणिक प्रमाण पत्रों से संबंधित स्वघोषणा पत्र ,कोविड19से स्व घोषणा पत्र लाना होगा.

ऑफ़लाइन मोड पर हो रहा नीट
नीट एग्जाम इस बार ऑफ़लाइन मोड पर आयोजित हो रहा है. एक ही पाली में दोपहर 02 बजे से शाम 05 बजे तक परीक्षा होगी. परीक्षा के बाद एग्जाम सेंटर को सेनेटाइज़ किया जाएगा. छात्रों की बैठने वाली कुर्सी, डेस्क को सेनेटाइज किया जाएगा. सेंटर के सभी दरवाज़ों, दरवाज़ों के हैंडल, रेलिंग, लिफ्ट,लिफ्ट के स्विच को भी सेनेटाइज किया जाएगा. एग्जाम से पहले छात्रों को सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म में मेडिकल हिस्ट्री की जानकारी देनी होगी. यानि उम्मीदवार को 14 दिन पहले सर्दी, खांसी, ज़ुकाम, बुखार, सांस लेने में परेशानी थी या नहीं. परीक्षा के बाद छात्रों को एक साथ ग्रुप में खड़े होने की अनुमति नहीं दी गयी है.
आने-जाने की व्यवस्था


नीट के लिए स्टूडेंट्स को एग्जाम सेंटर तक पहुँचाने पिकअप पॉइंट बनाए गए हैं. भोपाल जिले में 26 एग्जाम सेंटर के साथ राजगढ़, गुना अशोकनगर सिंगरौली सीधी रीवा सतना दमोह टीकमगढ़ रायसेन छतरपुर विदिशा होशंगाबाद हरदा बालाघाट सीहोर शाजापुर आगर मालवा इंदौर जिला में भी विद्यार्थियों को पिकअप करने पिकअप प्वाइंट बनाए गए हैं. अन्य जिलों से लगभग 2000 विद्यार्थियों को लेने के लिए 5 एकत्रीकरण एवं पार्किंग स्थल चिह्नित किए गए हैं. भोपाल के 132 स्टूडेंट को लेने के लिए 10 एकत्रीकरण केंद्र बनाये गए है.. इन पिकअप पॉइंट से विद्यार्थियों को परीक्षा केंद्रों पर पहुंचाया जाएगा. पिकअप पॉइंट से परीक्षार्थियों को लेने लाइजनिंग अधिकारी नियुक्त किए गए है जो स्टूडेंट्स को परीक्षा केंद्र तक पहुचाएंगे. भोपाल में नादरा बस स्टैंड आईएसबीटी,हबीबगंज रेलवे स्टेशन मुख्य रेलवे स्टेशन, हलालपुर बस स्टैंड से बाहर से आने वाले स्टूडेंट्स को पिकअप किया जाएगा. छात्रों को असुविधा ना हो इसके लिए लाइजनिंग अधिकारियों के नंबर भी जारी किए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज