लाइव टीवी

COVID-19 : कोरोना वायरस से निपटने में लापरवाही की तो हो सकती है 2 साल तक की सज़ा
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 23, 2020, 11:10 AM IST
COVID-19 : कोरोना वायरस से निपटने में लापरवाही की तो हो सकती है 2 साल तक की सज़ा
COVID-19 : कोरोना वायरस से निपटने में लापरवाही की तो हो सकती है 2 साल तक की सज़ा

भोपाल में जो युवती कोरोना पॉजिटिव पाई गई है उसके खिलाफ भी स्थानीय पुलिस एफ आई आर दर्ज कर सकती है. क्योंकि दिल्ली में भी इसी तरह के एक मामले में FIR दर्ज की गई थी. ऐसे में स्थानीय पुलिस भी FIR की तैयारी कर रही है. युवती का इलाज एम्स में चल रहा है.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना वायरस (COVID-19) से बचाव के लिए एहतियात ज़रूरी है. जो एहतियात नहीं बरतेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. मध्य प्रदेश में कार्रवाई शुरू भी हो चुकी है. खासतौर से उन लोगों पर पुलिस (POLICE) की नज़र है जो संदिग्ध मरीज़ हैं या जिनमें कोरोना पॉजिटिव मिला है. साथ ही अफवाह फैलाने या कोरोना को लेकर गलत जानकारी देने वालों पर भी कानूनी कार्रवाई की जा रही है.इसमें जुर्माने से लेकर जेल तक हो सकती है.

राजधानी भोपाल, नरसिंहपुर में कार्रवाई शुरू भी हो चुकी है. नरसिंहपुर के गोटेगांव में पुलिस ने कोरोना मरीज़ होने की खबर पोस्ट करने वाले को गिरफ्तार किया और भोपाल में 4 रेस्टोरेंट्स संचालकों पर अलग मामले में कार्रवाई की गयी.

भोपाल में कोरोना वायरस का एक पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद प्रशासन सख्त हो गया है. स्थानीय पुलिस COVID-19 पर अंकुश लगाने के लिए संबंधित कानून / विनियामक आदेशों का पालन नहीं करने वाले लोगों पर कार्रवाई कर रही है. कलेक्टर के आदेश के बाद पुलिस ने लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई करना भी शुरू कर दी है.

4 रेस्टोरेंट्स पर कार्रवाई



भोपाल में 4 रेस्टोरेंट्स संचालकों पर कानूनी कार्रवाई की गयी है. इनके खिलाफ एमपी नगर थाना पुलिस ने एफ आई आर दर्ज की है. इन संचालकों ने कलेक्टर के आदेश के बावजूद लॉक डाउन में भी अपने रेस्टोरेंट खोले. एफ आई आर के बाद चारों रेस्टोरेंट पुलिस ने बंद करवा दिया है.

पॉजिटिव मरीज पर एफ आई आर की तैयारी
भोपाल में जो युवती कोरोना पॉजिटिव पाई गई है उसके खिलाफ भी स्थानीय पुलिस एफ आई आर दर्ज कर सकती है. क्योंकि दिल्ली में भी इसी तरह के एक मामले में FIR दर्ज की गई थी. ऐसे में स्थानीय पुलिस भी FIR की तैयारी कर रही है. युवती का इलाज एम्स में चल रहा है.

इन धाराओं में होगी कार्रवाई
1- Sec 188 IPC: सरकार द्वारा घोषित आदेश का उल्लंघन
संज्ञेय,- जमानती

2 -Sec.269 IPC
लापरवाही से जीवन के लिए खतरनाक किसी भी बीमारी के संक्रमण को फैलाने की संभावना वाले किसी भी कार्य को करना भी गैर कानूनी है. इसमें दोषी पाए जाने पर 6 महीने तक कारावास या जुर्माना, या दोनों हो सकता है. हालांकि ये भी ज़मानती अपराध की श्रेणी में है.

3 - Sec 270 IPC
जीवन के लिए खतरनाक किसी भी बीमारी के संक्रमण को फैलाने की संभावना के लिए जाने जाने वाले किसी भी कार्य को करना 2 साल की कैद, या जुर्माना, या दोनों
संज्ञेय,- जमानती

4 - Sec.271 IPC
जानबूझकर किसी संगरोध नियम की अवज्ञा करना
6 महीने की कैद, या जुर्माना, या दोनों
गैर-संज्ञेय.

ये भी पढ़ें-

MP में 31 मार्च तक सरकारी दफ्तर भी बंद, सबको माना जाएगा हाज़िर

COVID-19 : राजधानी भोपाल 31 मार्च की रात 12:00 बजे तक लॉक डाउन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 11:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर