लाइव टीवी

न्यूज़ 18 ने किए दर्शकों के लिए आकर्षक बदलाव, एमपी छतीसगढ़ के दर्शकों की आवाज़ का मंच बना न्यूज़ 18 एमपी/छतीसगढ़

News18 Madhya Pradesh
Updated: November 1, 2019, 4:46 PM IST
न्यूज़ 18 ने किए दर्शकों के लिए आकर्षक बदलाव, एमपी छतीसगढ़ के दर्शकों की आवाज़ का मंच बना न्यूज़ 18 एमपी/छतीसगढ़
चैनल ने दर्शकों की रूचि के अनुरूप ढेरों बदलाव किये हैं

न्यूज18 मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ में पिछले दिनों दर्शकों की रूचि के अनुरूप ढेरों बदलाव किये हैं. ये बदलाव स्थानीय दर्शकों की मांग पर किये गए हैं जिसे लोग बेहद पसंद कर रहे हैं. इनमें कार्यक्रम शामिल किए गए हैं जिनमें आपको अपने हर सवाल का जवाब मिलेगा, क्योंकि ये मंच आपका है

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश छतीसगढ़ का सबसे लोकप्रिय चैनल न्यूज़ 18 एमपी छतीसगढ़ (News18MP & Chhattisgarh) यूं तो बीते कई सालों से स्थानीय दर्शकों के हितों से जुड़े मसलों को बहुत प्रमुखता से उठाता रहा है, लेकिन बीते दिनों चैनल ने दर्शकों की रूचि के अनुरूप ढेरों बदलाव किये हैं. ये बदलाव स्थानीय दर्शकों की मांग पर किये गए हैं जिसे लोग बेहद पसंद कर रहे हैं. एमपी (Madhya Pradesh) और छतीसगढ़ (Chattisgarh) के हर जिले और गांव की हर बड़ी खबर दिन भर में 10 बार सुपर फास्ट अंदाज़ में दिखाई जा रही है ताकि इन दोनों राज्यों के लोगों को अपने आस-पास घटने वाली हर छोटी बड़ी ख़बरों की मालूमात सबसे पहले हासिल हो सके. सुबह की शुरुआत का पहला बुलेटिन 7 बजे एमपी की खबरों का हमेशा की तरह है लेकिन 7:30 बजे छतीसगढ़ की खबरों का सुपर फास्ट बुलेटिन ताकि उस राज्य की हर बड़ी और छोटी लेकिन महत्वपूर्ण ख़बर आपसे चूके नहीं.

दोनों राज्यों के 80 जिलों की महत्वपूर्ण 80 ख़बरों का बुलेटिन अब आपको दिन में 4 बार देखने को मिलेगा. सुबह 8 बजे, 10.30 बजे, शाम 6 बजे और 8.30 बजे आप दोनों राज्यों के 80 जिलों की खबरों से बाखबर हो सकते हैं.

हम आपको बताएंगे कि ‘ये क्यूं हुआ..’
न्यूज़ 18 समझता है कि सुबह काम पर जाने से पहले प्रत्येक व्यक्ति अपने सरोकारों से जुडी खबरों को जानना चाहता है, लिहाज़ा सुबह 9.30 बजे आपको उस दिन की सबसे बड़ी ब्रेकिंग खबरों का बुलेटिन ‘बिग ब्रेकिंग’ देखने को मिलेगा, जिसमें दोनों राज्यों की उस वक़्त की तमाम बड़ी ख़बरों का पूरा विश्लेषण मिलेगा. क्या हुआ, कहां हुआ तो बाकी के चैनल बताते हैं लेकिन हम आपको इसमें ये भी बताएंगे कि ये क्यूं हुआ..

इसके अलावा सुबह 11.30 बजे ‘ख़बरें ज़रा हट के’ एक बुलेटिन शुरू हुआ है जिसमें दोनों राज्यों की ऐसी ख़बरें जिसे देखकर आप भी कहे बिना नहीं रहेंगे कि अरे.. ये तो हमें पता ही नहीं था कि ऐसा भी होता है. इनमें रोचक ख़बरों को समाहित किया गया है लेकिन उनको उन्हीं तथ्यों के साथ प्रस्तुत किया जा रहा है, जिस तरह से उसे दर्शक देखना चाहते हैं.

News - एमपी और छतीसगढ़ के हर जिले और गांव की हर बड़ी खबर सिर्फ News18मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ पर
एमपी और छतीसगढ़ के हर जिले और गांव की हर बड़ी खबर सिर्फ News18 मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ पर


कई बार ख़बरों में कॉपी से ज्यादा अपील विजुअल में होती है. तस्वीरें खुद खबर को बयान कर देती है. उसके लिए ज्यादा कुछ बोलने की ज़रूरत नही होती. ऐसी ही ख़बरों के लिए दोपहर 12.30 एक ख़ास बुलेटिन शुरू किया गया है जिसका नाम ही है ‘तस्वीरें बोलती हैं’ ज़ाहिर है कि इसका कंटेंट भी विजुअली रिच होता है.
Loading...

आपके बेहद ज़रूरी सवालों के जवाब
शाम के वक्त जनता से जुड़े हुए बेहद ज़रूरी सवाल जिनके जवाब लोग जिम्मेदार लोगों से जानना चाहते हैं, उसके लिए डिबेट का नया शो शुरू किया गया है, जिसका नाम ही है ‘जवाब तो देना ही होगा’ इस कार्यक्रम में हर दिन उन्हीं विषयों को शामिल किया जाता है जो दिन भर लोगों के मानस को मथ रहा होता है. इसमें बतौर पैनलिस्ट सरकार के ओहदेदारों, मंत्रियों को बैठाकर उनसे जनता से जुडी कैफ़ियत मांगी जाती है. कोशिश यही कि जनता के मुद्दे का समाधान हो सके.

इन बदलावों का उद्देश्य यही है ताकि क्षेत्रीय चैनलों की सरोकारी पत्रकारिता को जीवित रखा जाए और चैनल को जनता का चैनल बनाकर रखा जाए. यूँ भी अपने मसलों से जुडी समस्याएं, मुद्दे, तकलीफें लोग सोशल मीडिया के ज़रिए न्यूज़ 18 को बताते हैं और आग्रह करते हैं कि इस विषय पर सरकार या दूसरे जिम्मेदारों से जवाब मांगा जाए.. तो हम बनेंगे आपका मंच... कुल मिलाकर दिन भर आपको एक सम्पूर्ण बौद्धिक खुराक देने का वादा हमारा है

ये भी पढ़ें -
हनी ट्रैप कांड: इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की जांच में 14 रसूखदारों की पहचान, SIT ने शुरू की पूछताछ
वित्त मंत्री तरूण भनोत का आरोप- केंद्र सरकार ने बाढ़ राहत का एक रुपया भी नहीं दिया

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 4:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...