कोरोना पर कैसे लगे लगाम? केवल नाइट कर्फ्यू से नहीं चलेगा काम, अपनाना पड़ेगा ‘मोदी फार्मूला’

मध्य प्रदेश में कोरोना करीब-करीब बेकाबू हो गया है. (File)

मध्य प्रदेश में कोरोना करीब-करीब बेकाबू हो गया है. (File)

Corona and Night Curfew: सोशल-डिस्टेंसिंग और मास्क की अनिवार्यता का कड़ाई से पालन नहीं कराया जाता, तब तक कोरोना की मार से कैसे बचा जा सकता है? दवाई के साथ कड़ाई और टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट वाला फार्मूला अपनाए बिना कोरोना काबू में आना मुश्किल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 1:51 PM IST
  • Share this:
महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, गुजरात समेत देश के कई राज्यों के साथ-साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना संक्रमण का कहर तेजी से बढ़ रहा है. राज्य के भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर शहर में नाइट कर्फ्यू लगाते हुए 10 शहरों में रात 10 बजे तक बाजार बंद करने के आदेश दिए गए हैं. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) फैलने से रोकने के लिए उठाए जा रहे कदमों का तो स्वागत होना ही चाहिए, लेकिन सवाल यह है कि क्या केवल नाइट कर्फ्यू या रात में बाजार बंद करा देने भर से समस्या का समाधान हो जाएगा, क्या कोरोना केवल रात में ही लोगों को अपने शिकंजे में लेने निकलता है, दिन में वह सो जाता है?

नाइट कर्फ्यू अपनी जगह ठीक कदम है, लेकिन जब तक दिन भर चलने वाले मेलों-ठेलों और वहां जुट रही भीड़ पर रोक नहीं लगाई जाती, जब तक बाजारों, सड़कों पर सोशल-डिस्टेंसिंग और मास्क की अनिवार्यता का  कड़ाई से पालन नहीं कराया जाता, तब तक कोरोना संक्रमण तेजी से फैलता रहेगा. दवाई के साथ कड़ाई और टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट वाला ‘मोदी फार्मूला’ अपनाए बिना कोरोना काबू में आना मुश्किल है.

8 महीने पहले जैसे हालात

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज