CBI के अनुरोध पर मध्य प्रदेश में नौ विशेष व्यापमं अदालतें हुईं बंद

भाषा
Updated: September 17, 2017, 4:38 PM IST
CBI के अनुरोध पर मध्य प्रदेश में नौ विशेष व्यापमं अदालतें हुईं बंद
प्रतीकात्मक तस्वीर
भाषा
Updated: September 17, 2017, 4:38 PM IST
मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने व्यापमं से जुड़े मामलों की सुनवाई कर रही सीबीआई की नौ अदालतों को बंद कर दिया है. सीबीआई ने इन मामलों को सुनवाई के लिए अन्य अदालतों में ट्रांसफर करने की मांग की थी जिसके बाद हाईकोर्ट ने यह कदम उठाया है.

हाईकोर्ट ने व्यापमं घोटाले से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए 22 विशेष अदालतें गठित की थीं, जिनमें से चार को वह पहले ही बंद कर चुकी है. शेष 18 अदालतों में से नौ भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और इंदौर में हैं. इसके अलावा अन्य अदालतें रीवा, दमोह, सागर, बालाघाट, मुरैना, छतरपुर, गुना, भिंड और खंडवा जिले में हैं.

सीबीआई सूत्रों ने बताया कि सीबीआई के अनुरोध पर इन नौ जिलों में स्थित अदालतों को अब बंद कर दिया जाएगा. इन अदालतों में चल रहे 38 मामलों को भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और इंदौर की विशेष व्यापमं अदालतों में लाया जाएगा.

उन्होंने बताया कि एजेंसी ने इस संबंध में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट से अनुरोध किया था जिसने 11 सितंबर में अपने आदेश के जरिये इसे मंजूरी दी.

सूत्रों ने बताया कि भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और इंदौर में सीबीआई की विशेष अदालतों में आवश्यक ढांचागत व्यवस्था और मानव संसाधन हैं जो कि चल रही सुनवाई की निगरानी कर सकते हैं.

भोपाल में व्यापमं अदालत में तीन विशेष न्यायाधीश और एक विशेष मजिस्ट्रेट हैं. ग्वालियर में दो विशेष न्यायाधीश और एक विशेष मजिस्ट्रेट हैं, वहीं इंदौर और जबलपुर में एक एक विशेष न्यायाधीश हैं.

एक अधिकारी ने कहा कि इससे चल रही सुनवाइयों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. इन नौ अदालतों में कुल 154 मामलों में से 38 पर सुनवाई चल रही है, जिनमें से ज्यादातर गवाह इन जिलों से नहीं हैं. इसलिए मामलों को विशेष अदालतों में ट्रांसफर किए जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर