लाइव टीवी

MP की जेलों में बंद कैदियों को इंजीनियर बनाएगी कमलनाथ सरकार, 5 करोड़ का फंड तैयार
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 11, 2020, 5:30 PM IST
MP की जेलों में बंद कैदियों को इंजीनियर बनाएगी कमलनाथ सरकार, 5 करोड़ का फंड तैयार
MP की जेलों में बंद कैदियों को इंजीनियर बनाया जाएगा

भोपाल जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि वोकेशनल ट्रेनिंग में 2200 अलग-अलग ट्रेड हैं.इनमें आईटीआई से लेकर कई तकनीकी डिप्लोमा शामिल हैं.साथ ही इग्नू के साथ दूसरी यूनिवर्सिटी से

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश (MP) की जेलों (JAIL) में बंद कैदियों (Prisoners) को इंजीनियर ( engineer) बनाने की तैयारी है. सरकार ने 5 करोड़ का फंड (FUND) बना दिया है. इससे अब उन्हें तकनीकी शिक्षा का कोर्स कराया जाएगा. तकनीकी शिक्षा विभाग (Technical education department) कोर्स और ट्रेनिंग की व्यवस्था करेगा.

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन ने बताया कि हाल ही में कौशल विकास एवं व्यावसायिक बोर्ड की बैठक हुई थी. उसमें तकनीकी शिक्षा विभाग के साथ मिलकर बंदियों को वोकेशनल ट्रेनिंग देने का फैसला लिया गया है. अफसरों से तैयारी करने के लिए कहा गया है. इस बैठक में 5 करोड़ का फंड भी बना दिया गया. कोर्स और ट्रेनिंग पर इसी फंड से खर्च किया जाएगा.अभी तक जेल प्रशासन के पास स्थायी फंड की व्यवस्था नहीं थी...

जेल मुख्यालय को मिले पावर
अभी अस्थायी फंड होने की वजह से जेलों में ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाने में दिक्कत होती थी.जेल प्रशासन जो प्रस्ताव तैयार करता था पुलिस मुख्यालय उसे पहले इजाज़त वित्त विभाग को भेजता था. फंड आने के बाद ही कैदियों की ट्रेनिंग वगैहर हो पाती थी. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा...जेल मुख्यालय को फंड के इस्तेमाल के पावर दिए गए हैं.अब जेलों में ज्यादा से ज्यादा ट्रेनिंग प्रोग्राम होंगे और कैदियों को रोजगार भी मिलेगा.

इंजीनियरिंग कोर्स कराएगा तकनीकी शिक्षा विभाग
जेल विभाग तकनीकी शिक्षा विभाग से मदद ले रहा है. मंत्री बाला बच्चन ने तकनीकी शिक्षा विभाग के समन्वय से प्रदेश की जेलों में बंद कैदियों को वोकेशनल ट्रेनिंग करने का फैसला लिया है.उन्होंने ट्रेनिंग के लिए विभाग के तमाम अफसरों को निर्देश दिए हैं. पहले प्रोग्राम तैयार किया जाएगा और फिर कैदियों को तमाम इंजीनियरिंग कोर्स कराए जाएंगे.​ इच्छुक कैदी डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं.इसके अलावा आईटीआई के तहत भी तमाम कोर्स इच्छुक कैदियों को कराए जाएंगे.

22सौ अलग-अलग कोर्सभोपाल जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि वोकेशनल ट्रेनिंग में 2200 अलग-अलग ट्रेड हैं.इनमें आईटीआई से लेकर कई तकनीकी डिप्लोमा शामिल हैं.साथ ही इग्नू के साथ दूसरी यूनिवर्सिटी से भी इच्छुक कैदी डिग्री के साथ दूसरे डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं.उन्होंने बताया कि अब तकनीकी शिक्षा विभाग के जरिए कैदियों को अलग-अलग कोर्स करने का मौका मिलेगा.

ये भी पढ़ें-दिल्ली चुनाव परिणाम : सीएम कमलनाथ और शिवराज ने अपनी नज़र से देखे नतीजे

राष्ट्रीय जल सम्मेलन में CM कमलनाथ ने खोला अपने राजनीति में आने का राज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 5:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर