Home /News /madhya-pradesh /

47 डिग्री टॉर्चर : लू के थपेड़ों में भभकते इंजन और दहकती पटरी के बीच दौड़ती ज़िंदगी

47 डिग्री टॉर्चर : लू के थपेड़ों में भभकते इंजन और दहकती पटरी के बीच दौड़ती ज़िंदगी

रेलवे का कहना है चूंकि इंजन पुराने हैं इसलिए उनमें सिर्फ एक पंखे से हवा का इंतजाम है. आने वाले इंजन में ऐसी लगाया गया है ऐसे में आने वाले वक्त में जरुर पायलेट को कुछ सुविधा मिलेगी

रेलवे का कहना है चूंकि इंजन पुराने हैं इसलिए उनमें सिर्फ एक पंखे से हवा का इंतजाम है. आने वाले इंजन में ऐसी लगाया गया है ऐसे में आने वाले वक्त में जरुर पायलेट को कुछ सुविधा मिलेगी

रेलवे का कहना है चूंकि इंजन पुराने हैं इसलिए उनमें सिर्फ एक पंखे से हवा का इंतजाम है. आने वाले इंजन में ऐसी लगाया गया है ऐसे में आने वाले वक्त में जरुर पायलेट को कुछ सुविधा मिलेगी




    • सैकड़ों मुसाफिरों को एसी में सफर कराने वाले भारतीय रेल के ड्राइवर और गार्डस खुद भीषण गर्मी में काम करते हैं. लोगों को गर्मी में राहत का सफर कराने वाली किसी भी ट्रेन में पायलेट और गार्ड के लिए कोई सुविधा नहीं है. सिर्फ एक पंखे की हवा में लू के थपेड़ों और चिलचिलाती धूप में ये ट्रेन दौड़ाते हैं और करोड़ों मुसाफ़िरों को समय पर मंज़िल तक पहुंचाते हैं.
      आसमान से आग-पूरे मध्य प्रदेश में आसमान आग बरसा रहा है. गर्मी रिकॉर्ड तोड़ रही है. हर जगह पारा ऐसा चढ़ा है कि उतरने का नाम नहीं ले रहा. गर्मी से बचने के लिए सब तरह तरह के उपाय कर रहे हैं. लेकिन हम सबसे बीच ऐसे भी लोग हैं जो गर्मी से बेपहरवाह अपने काम में लगे हैं. रोज़ करोड़ों लोगों को अपनी मंज़िल तक पहुंचा रहे हैं. ये हैं भारतीय रेलवे के गार्ड, ड्राइवर और लोको पायलट. बाक़ी सबके पास गर्मी से बचने की सुविधा और साधन हैं, लेकिन रेलवे के इन ड्राइवर्स के लिए कोई सुविधा नहीं.
      रेलवे ड्राइवर्स के लिए सुविधा नहीं- रोजाना सैकड़ों यात्रियों को एसी में सफर कराने वाले भारतीय रेल के ड्राइवर और गार्डस को बिना किसी सहूलियत के भीषण गर्मी में सफर करना पड़ता है.इन गार्ड्स और ड्राइवर के केबिन में सिर्फ एक पंखे के सिवाय कोई सुविधा नहीं होती है. इस लपलपाती लू में 100 या उससे ज़्यादा की रफ़्तार में ये ट्रेन दौड़ाते हैं. अनुमान लगाना मुश्किल नहीं कि लू के भीषण थपेड़ों के बीच ये कैसे रोज़ ट्रेन को वक़्त पर एक शहर से दूसरे शहर पहुंचाते हैं.(भोपाल से सोनिया राणा की रिपोर्ट)
      बेहतर कल की उम्मीद- रेलवे का कहना है चूंकि इंजन पुराने हैं इसलिए उनमें सिर्फ एक पंखे से हवा का इंतजाम है. आने वाले इंजन में ऐसी लगाया गया है ऐसे में आने वाले वक्त में जरुर पायलेट को कुछ सुविधा मिलेगी



    LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी



Tags: Heat in 10 states, Indian railway, Indian Railway Catering and Tourism Corporation, Madhya pradesh news, Outbreak of heat, भोपाल

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर