Bhopal : 2  महीने बाद भी राजधानी के सबसे बड़े सरकारी हमीदिया अस्पताल में शुरू नहीं हुआ कोविड वॉर्ड
Bhopal News in Hindi

Bhopal : 2  महीने बाद भी राजधानी के सबसे बड़े सरकारी हमीदिया अस्पताल में शुरू नहीं हुआ कोविड वॉर्ड
हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) में बन रही नई बिल्डिंग में कोविड-3 (Covid ward) वॉर्ड खोला जाना है.इस वॉर्ड में 240 बेड लगाने की कवायद चल रही है. लेकिन अभी तक यहां न तो ऑक्सीजन सप्लाई शुरू हो पायी है. न मल्टी पैरा मॉनीटर के साथ अन्य उपकरणों की फिटिंग की गई है

हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) में बन रही नई बिल्डिंग में कोविड-3 (Covid ward) वॉर्ड खोला जाना है.इस वॉर्ड में 240 बेड लगाने की कवायद चल रही है. लेकिन अभी तक यहां न तो ऑक्सीजन सप्लाई शुरू हो पायी है. न मल्टी पैरा मॉनीटर के साथ अन्य उपकरणों की फिटिंग की गई है

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (MP) में कोरोना संक्रमण (Corona) के मामले बढ़ते जा रहे हैं. राजधानी भोपाल के अस्पतालों में 86 फीसदी से ज्यादा बेड मरीजों से भर चुके हैं. ऐसी स्थिति में भी शहर का सबसे बड़ा सरकारी हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) सुविधाओं के लिए रो रहा है. इस अस्पताल के कोविड वॉर्ड में बेड की कमी और दवाओं का टोटा है. वॉर्ड को जुलाई में शुरू होना था लेकिन काम पूरा नहीं हुआ इसलिए अब तक शुरू हो नहीं सका.

नये मरीज़ की भर्ती नहीं
भोपाल में जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अरविंद मीणा ने बताया कि अठारह जुलाई को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने हमीदिया अस्पताल का दौरा किया था.यह उनका मंत्री बनने के बाद पहला दौरा था. उन्होंने दौरे के समय गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन और हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक को निर्देश दिया था कि एक सप्ताह के अंदर यहां बिस्तरों की क्षमता बढ़ाई जाए.कोरोना मरीजों की संख्या में जिस तरह से तेजी आ रही है उसी गति से संसाधन जुटाए जाएं. मंत्री के इस निर्देश पर दोनों अधिकारियों ने वादा किया था कि जल्द से जल्द कमियां दूर कर दी जाएंगी. लेकिन डेढ़ महीना गुजर जाने के बाद भी ऐसा नहीं हुआ.

डॉक्टरों के लिए भी बेड नहीं
हमीदिया अस्पताल में कोरोना मरीजों की परेशानी का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि सोमवार को यहां जीएमसी के 9 जूनियर डॉक्टरों को भर्ती करने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा.इसका कारण था कि यहां अब पलंग खाली नहीं बचे हैं. लिहाजा नए मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा. यहां जब डॉक्टरों को ही पलंग नहीं मिला तो हंगामा हो गया.



140 बेड के साथ कोरोना से जंग
मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के सचिव राकेश मालवीय ने बताया कि जुलाई-अगस्त में हमीदिया अस्पताल में कोविड-1 में 100 बेड और कोविड-2 में 120 बेड आईसीयू के थे. इस तरह हमीदिया के कोरोना वॉर्ड में कुल 220 बेड आईसीयू के पास थे. सूत्रों से ज्ञात हुआ कि कुछ दिन पहले अस्पताल प्रबंधन ने बेड कम कर दिए. इन बिस्तरों की संख्या में ये कहते हुए कमी कर दी कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा है.अब कोविड-1 वार्ड में 60 और कोविड-2 वार्ड में 80 पलंग बचे हैं.इस तरह सिर्फ 140 आईसीयू पलंग के साथ हमीदिया अस्पताल कोरोना से जंग लड़ रहा है.

पीठ थपथपाने में लगे मंत्री
हमीदिया अस्पताल में बन रही नई बिल्डिंग में कोविड-3 वॉर्ड खोला जाना है.इस वॉर्ड में 240 बेड लगाने की कवायद चल रही है. लेकिन अभी तक यहां न तो ऑक्सीजन सप्लाई शुरू हो पायी है. न मल्टी पैरा मॉनीटर के साथ अन्य उपकरणों की फिटिंग की गई है. कमरों में सिर्फ पंखे, लाइट और कुछ नये पलंग लगा दिए गए हैं. मंत्री का कहना है उन्होंने अस्पताल में मरीजों की सुविधा के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है. कोरोना के मरीजों को हर सुविधा देने के लिए सरकार तत्पर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज