पुराना शहर, जर्जर इमारतें, जान हथेली पर रख दहशत में गुजार रहे जिंदगी

भोपाल के पुराने शहर में हनुमान गंज थाने के पीछे बने रानी मार्केट की पुलिस कॉलोनी में रहने वाले लोग आज भी दहशत की जिंदगी गुजार रहे हैं.

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:21 PM IST
पुराना शहर, जर्जर इमारतें, जान हथेली पर रख दहशत में गुजार रहे जिंदगी
भोपाल में विस्थापित परिवार आज भी जर्जर मकानों में रह रहे हैं.
Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:21 PM IST
आजादी को मिले भले ही 72 साल गुजर चुके हो लेकिन भोपाल में विस्थापित हुए परिवार आज भी जर्जर मकानों में रह रहे हैं. ऐसे ही कुछ परिवार आज भी जर्जर इमारत में रहने को मजबूर हैं. पुराने शहर में हनुमान गंज थाने के पीछे बने रानी मार्केट की पुलिस कॉलोनी में रहने वाले लोग आज भी दहशत की जिंदगी गुजार रहे हैं.

यूं तो हर मौसम में डर लगा रहता है लेकिन जब मौसम बरसात का हो तो डर का साया दिलोदिमाग से जाने का नाम नहीं लेता. इमारत की हालत ऐसी है कि किसी दिन बड़ा हादसा हो सकता है. बारिश के दौरान आए दिन मकान का कोई भी जर्जर हिस्सा गिर जाता है जिससे लोग हादसों का शिकार हो जाते हैं.

कॉलोनी रहवासियों का कहना है कि सरकार ऐसे तो लोगों के अवैध कब्जे को वैध करने की योजनाएं बना रही है, लेकिन जो सरकार की ओर से इन विस्थापित परिवार को वैध आवंटन किए गए हैं लेकिन उनके रिकन्सट्रक्शन के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा.

बीजेपी का चंदा अभियान शुरू, सांसदों-विधायकों के साथ सीएम भी काटेंगे पर्चियां!

मामले को लेकर रहवासी परिवारों ने सीएम, कलेक्टर, मंत्री बाबूलाल गौर और DGP तक से शिकायत की है लेकिन बदले में मिला तो मात्र आश्वासन. लोगों का कहना है मकान पुलिस विभाग की ओर से आवंटित किया गया है. इतना ही नहीं विभाग रहवासियों से किराए के रूप में कटौती भी करता है.

नगर निगम से लेकर सभी तरह के टैक्स रहवासियों से वसूले जाते हैं फिर भी किसी का ध्यान जर्जर मकानों को सुधरवाने की ओर नहीं गया है. रहवासियों की मानें तो 1947 से यह कॉलोनी पाकिस्तान से आए सिंधी विस्थापितों के लिए बनाई गई थी.

कॉलोनी में रह रहे लोगो डर के साए में अपना जीवन मजबूरी वश मकानों में काट रहे हैं, जबकि कई परिवार जर्जर हो चुके क्वार्टर को खाली भी कर चुके हैं. जर्जर मकानों में अपना आशियाना बनाए पुलिस कॉलोनी के लोग दहशत के साए में जी रहे हैं.

ये पढ़ें- हाइटेक होगा ऑल मुस्लिम इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड, IT एक्सपर्ट होंगे सक्रिय
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर