होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /पुलिस से नहीं मिली थी अनुमति, फिर भी स्वामी पुरुषोत्तमानंद बाबा ने ली भूमिगत समाधि, 72 घंटे बाद आएंगे बाहर

पुलिस से नहीं मिली थी अनुमति, फिर भी स्वामी पुरुषोत्तमानंद बाबा ने ली भूमिगत समाधि, 72 घंटे बाद आएंगे बाहर

Bhopal Latest News: भोपाल में बिन पुलिस के अनुमति के स्वामी पुरुषोत्तमानंद ने भूमिगत समाधि ले ली है.

Bhopal Latest News: भोपाल में बिन पुलिस के अनुमति के स्वामी पुरुषोत्तमानंद ने भूमिगत समाधि ले ली है.

Bhopal News: भोपाल में स्वामी पुरुषोत्तमानंद बाबा (Swami Purushottamand Baba) ने पुलिस ने अनुमति नहीं मिलने के बाद भी 3 ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भोपाल में स्वामी पुरुषोत्तमानंद बाबा ने ली 3 दिन की भूमिगत समाधि
बाबा को समाधि लेने के लिए पुलिस ने नहीं दी है अनुमति
दरबार परिसर में 5 फीट लंबा और 7 फीट गहरा गड्ढा तैयार किया गया है

भोपाल. राजधानी भोपाल में स्वामी पुरुषोत्तमानंद बाबा ने 3 दिन के लिए समाधि ले ली. यह समाधि उन्होंने जन कल्याण के लिए ली. पुलिस प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी थी, लेकिन जब उन्हें रोकने के लिए मौके पर पहुंची तो बाबा और उनके समर्थक नहीं माने . पुलिस की मौजूदगी में ही उन्होंने भूमिगत समाधि ले ली. टीटी नगर स्थित मां भद्रकाली विजयासन दरबार परिसर में स्वामी पुरुषोत्तमानन्द महराज ने तीन दिवसीय भूमिगत समाधि साधना शुरू की. इस दौरान बड़ी संख्या में साधु संत मौजूद थे. श्रद्धालुओं की उपस्थिति में ब्राह्मणों ने वेदमन्त्रों के बीच यह साधना शुरू की. समाधि साधना के लिए दरबार परिसर में 5 फीट लंबा और 7 फीट गहरा गड्ढा तैयार किया गया था. इसमें पुरुषोत्तमानन्द ने ध्यानमुद्रा बनाकर आसन लगाया.

इसके बाद उस गड्ढे को लकड़ी के पटियों से ढक दिया गया और उस पर कपड़ा बिछाकर मिट्टी डाल दी. स्वामी पुरुषोत्तमानन्द ने अपने भूमिगत समाधि साधना का उद्देश्य जन कल्याण की कामना बताया है.  उन्हें पूरा भरोसा है कि अनुष्ठान सफल होगा और इससे माता रानी के आशीर्वाद स्वरूप जो भी सिद्धि प्राप्त होगी. पुरुषोत्तमानंद महाराज मां भद्रकाली विजयासन दरबार के आध्यात्मिक संस्था के संस्थापक हैं.

पुलिस ने बनाया यह  बहाना

पुलिस ने बाबा को कोई लिखित में समाधि की अनुमति नहीं दी है, लेकिन मौखिक रूप से उनकी परिवार की सहमति पर उन्हें समाधि करने से रोका भी नहीं गया. पुलिस की मौजूदगी में ही उन्होंने समाधि ली. बाबा की इस समाधि पर डीसीपी साईं कृष्णा ने बताया कि कोई अगर अपने प्राइवेट प्रॉपर्टी के अंदर ऐसी गतिविधियां करता है तो जिसके बारे में वह और उसके फैमिली मेम्बर कॉन्फिडेंट हैं कि इससे उनके स्वास्थ्य को कोई हानी नहीं होगी तो अनुमति दी जाती है.

ये भी पढ़ें:  शादी के महज 5 दिन बाद नई नवेली दुल्हन ने किया बड़ा कारनामा, ससुराल वाले रह गए हैरान, थाने पहुंचा मामला

बाबा के परिवार के सदस्यों ने इस बात को पुलिस से बताया की इससे उनके स्वास्थ्य को कोई हानि नहीं होगी. ऐसी क्रिया वो पहले भी कर चुके हैं. इन बातों को ध्यान में रखते हुए और धार्मिक कारण होने के नाते अनुमति दी गई. वहां पुलिस बल मौजूद है. अगर कोई भी दिक्कत होती है तो तत्काल मदद की जाएगी.

Tags: Bhopal news, Mp news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें