LOCK खुलते वक्त जागा आनंद विभाग, अब कहेगा 'Lockdown में बाहर नहीं भीतर चलें' 
Bhopal News in Hindi

LOCK खुलते वक्त जागा आनंद विभाग, अब कहेगा 'Lockdown में बाहर नहीं भीतर चलें' 
लॉकडाउन के दौरान मध्य प्रदेश में आनंद विभाग की ऑनलाइन क्लासेस

आनंद विभाग का यह कार्यक्रम 5 दिन का होगा.इसमें लोगों को ऑनलाइन क्लासेस (online classes) उपलब्ध कराई जाएंगी.

  • Share this:
भोपाल. लॉकडाउन (lockdown) खुलने के वक्त में मध्यप्रदेश का आनंद विभाग जाग गया है. आनंद विभाग की ओर से ऑनलाइन अल्पविराम कार्यक्रम के तहत एक नया कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है. इस कार्यक्रम को "लॉकडाउन में बाहर नहीं भीतर चलें" नाम दिया गया है. इसका मतलब है कि लोगों को लॉकडाउन में अपने अंदर झांकने की जरूरत है और इसमें वह कैसे खुद के अंदर खुशी और सुकून तलाश सकते हैं.

आनंद विभाग का यह कार्यक्रम 5 दिन का होगा. इसमें लोगों को ऑनलाइन क्लासेस उपलब्ध कराई जाएंगी. दरअसल कुछ वक्त पहले ही मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में फिर से आनंद विभाग को एक्टिव करने के निर्देश दिए थे. उन्होंने कहा था कि कोरोना आपदा में लोगों को खुश करने के लिए आनंद विभाग की गतिविधियों को फिर से शुरू किया जाए. इसी के तहत अब आनंद विभाग ऑनलाइन अल्पविराम कार्यक्रम शुरू करने जा रहा है. हालांकि इन कार्यक्रम की शुरुआत तब हो रही है जब लॉकडाउन खत्म होने की घोषित तारीख 3 मई नज़दीक आ गयी है.

कैसा है ये कार्यक्रम ?
अल्पविराम कार्यक्रम 5 दिन का होगा. इसमें रोज सुबह 10:00 बजे से 11:30 बजे तक एक सेशन होगा. इस दौरान कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों को अपने साथ एक डायरी और पेन रखना होगा और अल्पविराम लेना होगा. कार्यक्रम में पहले आओ पहले पाओ के आधार पर केवल 40 लोगों को एंट्री दी जाएगी.
क्या होगा अल्प विराम में ?


जो लोग इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे होंगे उनके मोबाइल नंबर के आधार पर एक व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किया जाएगा. इस ग्रुप में सभी सदस्यों को एक दूसरे से इंट्रोडक्शन करना होगा और अपने बारे में जानकारी देनी होगी. रोज सुबह 10:00 से 11:30 के सेशन में लॉगिन आईडी और यूजर पासवर्ड व्हाट्सएप ग्रुप पर ही दिया जाएगा. सेशन में शामिल होने के लिए एक डायरी और पेन के साथ घर के किसी शांत कोने में बैठना होगा.

5 दिन 5 सेशन
5 दिन के इस कार्यक्रम में 5 तरह के कार्यक्रम किए जाएंगे. पहले दिन सेल्फ अवेयरनेस कार्यक्रम चलाया जाएगा.इसका मकसद घर परिवार और खुद के प्रति जागरुक होना है. दूसरा दिन इस बात पर आधारित होगा कि कैसे कोरोना आपदा के बीच चिंता को चिंतन में बदलकर समाधान खोजा जा सकता है. तीसरा दिन जिंदगी के लेखा जोखा पर आधारित होगा जिसमें क्षमा, माफी और थैंक्यू जैसे शब्दों की अहमियत को बताया जाएगा. चौथे दिन शांत वक्त में अपने अंदर की शक्ति से जुड़ने के महत्व को बताया जाएगा. 5वां और आखिरी दिन जीवन के उद्देश्यों पर आधारित होगा.

ये भी पढ़ें-

दीपक बाबरिया हटाए गए, मुकुल वासनिक मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रभारी नियुक्त

कोरोना वायरस का डर: युवक को गाड़ी के बाहर लटका कर 15 किमी तक ले गई पुलिस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading