अपना शहर चुनें

States

पकड़ा गया एमपी-सीजी में पनामा पेपर्स का पहला मामला

इसी परिसर में शिंदे का आलीशान घर और कारंवा रिसोर्ट है.
इसी परिसर में शिंदे का आलीशान घर और कारंवा रिसोर्ट है.

भोपाल में संजय विजय सिंह शिंदे के ठिकानों पर चार दिनों तक चली छापेमारी में आयकर विभाग को शिंदे के विदेशों में 30 करोड़ रुपए से अधिक का कालाधन जमा होने के दस्तावेज मिले हैं.

  • Share this:
दुनिया भर में चर्चित पनामा पेपर्स लीक का कनेक्शन मध्यप्रदेश से भी जुड़ गया है. भोपाल में संजय विजय सिंह शिंदे के ठिकानों पर चार दिनों तक चली छापेमारी में आयकर विभाग को शिंदे के विदेशों में 30 करोड़ रुपए से अधिक का कालाधन जमा होने के दस्तावेज मिले हैं. संजय विजय शिंदे का नाम पनामा पेपर्स में आया था. करीब 4 साल पहले गोवा से आकर शिंदे भोपाल में रिसोर्ट और एडवेंचर्स स्पोर्ट्स का कारोबार कर रहा था.सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग के बड़े अधिकारी ने दावा किया कि सेन्ट्रल इंडिया में पनामा पेपर्स लीक मामले में शिंदे के रुप में पहला मामला है, जिसका विदेशों में कालाधन जमा होने का प्रमाण मिला है.

भोपाल शहर से करीब 15 किलोमीटर दूर रातीबड़ इलाके में संजय विजय शिंदे ने 18 एकड़ क्षेत्र में फैली बेशकीमती जमीन पर इंटरनेशनल कार्ट रेसिंग सर्किट बनाया है. इसी परिसर में शिंदे का आलीशान घर और कारंवा रिसोर्ट है. यहां शुक्रवार से चली आ रही आयकर विभाग की छानबीन सोमवार रात पूरी हो गई है. दूसरी ओर रियल स्टेट कारोबारी सुरभि ग्रुप के संचालकों प्रदीप सरैया और संतोष रमतानी पर बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई की तलवार लटक गई है. आयकर विभाग के अफसर इस दिशा में पड़ताल कर रहे हैं.

सरैया और रमतानी के ठिकानों पर की जा रही छापेमारी में भोपाल शहर के पास बड़ी मात्रा में जमीनों की खरीद-फरोख्त से जुड़े दस्तावेज मिले हैं. विभाग को इस बात की प्रबल आशंका है कि सरैया और रमतानी के जरिए लोगों ने जमीनों में अपना कालाधन लगाया है. आयकर विभाग की छापेमारी में शिंदे, सरैया और रमतानी की कालीकमाई का आंकड़ा 70 करोड़ पार कर गया है. सरैया और रमतानी के ठिकानों से बड़े पैमाने पर जमीनों के कागजात मिले हैं. छापेमारी में जब्त दस्तावेजों की आयकर विभाग के अधिकारी छानबीन कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज