Home /News /madhya-pradesh /

पैरा स्विमर सत्येंद्र ने अब शार्क से भरे अरब सागर को किया पार, PM मोदी भी कर चुके हैं तारीफ

पैरा स्विमर सत्येंद्र ने अब शार्क से भरे अरब सागर को किया पार, PM मोदी भी कर चुके हैं तारीफ

सत्येंद्र लोहिया के आज के सफलता के इस सफर में उनके तीन साथी भी थे. इनके नाम रिमो साहा कोलकाता, एल्विश हजारिका असम और गणेश महाराष्ट्र के हैं

सत्येंद्र लोहिया के आज के सफलता के इस सफर में उनके तीन साथी भी थे. इनके नाम रिमो साहा कोलकाता, एल्विश हजारिका असम और गणेश महाराष्ट्र के हैं

Story of Success : सत्येंद्र सिंह लोहिया (Para Swimmer Satyendra Singh Lohia) इससे पहले दुनिया की सबसे मुश्किल चैनल मानी जाने वाली इंग्लिश चैनल पार कर चुके हैं. भिंड के इस पैरा स्विमर के नाम उपलब्धियों और सफलता का लंबा सफर है. उन्होंने आज ये सफलता हासिल करने के बाद संदेश दिया कि विकलांगता शारीरिक नहीं होती बल्कि कुछ लोगों की बुरी सोच है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्यप्रदेश के अंतर्राष्ट्रीय पैरा स्विमर सत्येंद्र सिंह लोहिया (Para Swimmer Satyendra Singh Lohia) ने फिर एक रिकॉर्ड कायम किया है. सत्येंद्र ने अपनी टीम के साथ अरब सागर में धरमतर जेट्टी से गेटवे ऑफ इंडिया मुंबई तक 36 कि.मी. की दूरी तैरकर 10 घंटे 3 मिनट में तय कर ली. खुद सत्येंद्र ने ये जानकारी देते हुए सबका धन्यवाद अदा किया है. ये भारत में समंदर की सबसे मुश्किल चैनल मानी जाती है. लेकिन सत्येंद्र और उनके साथियों ने इसे कर दिखाया.

सत्येंद्र लोहिया इससे पहले दुनिया की सबसे मुश्किल चैनल मानी जाने वाली इंग्लिश चैनल पार कर चुके हैं. भिंड के इस पैरा स्विमर के नाम उपलब्धियों और सफलता का लंबा सफर है. उन्होंने आज ये सफलता हासिल करने के बाद संदेश दिया कि विकलांगता शारीरिक नहीं होती बल्कि कुछ लोगों की बुरी सोच है.

सत्येंद्र ने लिखा…
सत्येंद्र ने अपनी इस उपलब्धि की जानकारी देते हुए लिखा- मैंने आज अपनी टीम के साथ अरब सागर में धर्मतर से लेकर मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया तक 36 किमी की दूरी पार कर ली. इसमें 10 घंटे, 03 मिनट का समय लगा. इस चुनौती को भारत में खुले पानी में तैरने का सबसे साहसिक प्रयास माना जाता है. अरब महासागर का यह हिस्सा विशेष रूप से शार्क से भरा हुआ है. इसलिए तैराकों के लिए चैनल पार करना अधिक साहसी और कठिन हो जाता है. इस चुनौती के माध्यम से हमारी टीम यह संदेश देना चाहती है कि “विकलांगता शारीरिक नहीं है, यह केवल एक व्यक्ति का बुरा रवैया है”.

ये भी पढ़ें- कृषि कानून वापसी : सरकार की विफलता का ठीकरा उमा भारती ने बीजेपी पर ही फोड़ा 

सत्येंद्र के नाम रिकॉर्ड
सत्येंद्र इससे पहले कैटलीना चैनल को 11 घण्टे 34 मिनट मे पार करने का भी कारनामा कर चुके हैं. सत्येंद्र अपनी टीम के साथ इस चैनल को पार करने वाले पहले एशियाई तैराक भी हैं. उन्होंने साल 2018 में इग्लैंड में स्थित इंग्लिश चैनल को 12 घण्टे 24 मिनट में तैरकर  एशियाई लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराया था.

उपलब्धियों की लंबी लिस्ट
सत्येंद्र सिंह लोहिया मध्य प्रदेश के पहले दिव्यांग हैं जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना नाम कमा चुके हैं. उन्हें नेशनल अवार्ड भी मिल चुका है. इसके अलावा सात नेशनल पैरा तैराकी चैंपियनशिप में भाग लेकर 24 पदक प्रदेश के लिये हासिल कर चुके हैं. तीन अंतरराष्ट्रीय पैरा तैराकी चैंपियनशिप में देश के लिए एक गोल्ड मेडल के साथ 4 पदक हासिल किए हैं. सत्येंद्र मध्यप्रदेश के भिंड जिले के ग्राम गाता के रहने वाले हैं. उन्होंने अपना शुरुआती करियर बेहद संघर्षों में बिताया है.

ये थी सत्येंद्र और उनकी टीम
सत्येंद्र लोहिया के आज के सफलता के इस सफर में उनके तीन साथी भी थे. इनके नाम रिमो साहा कोलकाता, एल्विश हजारिका असम और गणेश महाराष्ट्र के हैं

Tags: Indian swimmer, Madhya pradesh latest news, PM Modi, Sports news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर