कोरोना से जवानों की मौत पर PHQ टेंशन में, एनर्जी बूस्टर से बढ़ा रहे सुरक्षाकर्मियों की इम्युनिटी

PHQ को अपने जवानों की सुरक्षा की चिंता सताने लगी है. पुलिसकर्मियों पर इन दिनों दोहरी जिम्मेदारी है.

मध्य प्रदेश में पुलिस मुख्यालय में तनाव में है. कोरोना संक्रमण की वजह से जवानों की मौत हो रही है. इससे बचने के लिए पुलिसकर्मियों को एनर्जी बूस्टर दिया जा रहा है. ताकि, वे सुरक्षित रहें.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना से पुलिस जवानों की मौत पर पुलिस मुख्यालय (Police Head Quarter) चिंता में पड़ गया है. भोपाल में दस से ज्यादा जवानों की संक्रमण से मौत हो चुकी है. इसलिए इस महामारी से बचाने के लिए जवानों को एनर्जी बूस्टर दिया जा रहा है. विभाग के सीनियर अफसर मैदान में तैनात पुलिसकर्मियों को दवाएं दे रहे हैं. पुलिस अफसर जवानों की हिम्मत बढ़ाने का काम भी कर रहे हैं. एनर्जी बूस्टर के लिए हर जिले में नोडल अधिकारी भी तैनात किए गए हैं.

जानकारी के मुताबिक, यह दवा रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाने का काम कर रही है. दवाओं में गर्मी से बचाने के लिए भी पाउडर दिए गए हैं. पुलिस अफसर अपने-अपने थाने के स्टाफ, कंट्रोल रूम से लगा फोर्स, डायल 100 के चालक, भीड़भाड़ वाले इलाके में लगातार ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों को दवा की पूरी किट मुहैया करा रहे हैं. गौरतलब है कि कोरोना काल में मैदान में तैनात जवानों पर संक्रमण से लोगों को बचाने और अपराध रोकने की दोहरी जिम्मेदारी है. ऐसे में उन्हें खतरे से बचाना जरूरी है.

एमपी नगर पुलिस ने की शुरुआत

सबसे पहले एमपी नगर में पुलिसकर्मियों को दवाओं का वितरण किया गया. एमपी नगर के थाना प्रभारी ने ये दवाएं वितरित कीं. एमपी नगर थाना प्रभारी सुधीर अरजरिया और एसआई सूरज सिंह रंधावा ने कहा कि कोविड -19 महामारी में ड्यूटी कर रहे थाने के समस्त स्टाफ, कंट्रोल रूम से लगे बल, डायल 100 के चालक और भीड़भाड़ वाले इलाकों जा रहे पुलिसकर्मियों के संक्रमित होने की संभावना बहुत ज्यादा है. इसके मद्देनजर सभी को कोरोना वायरस से बचाव के लिए फेस शील्ड, मेडिसन को उनके ड्यूटी पॉइन्ट पर जाकर वितरण किया गया.

पुलिस कर्मियों की हिम्मत बढ़ाई

गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में कई पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है. इस वजह से अब बाकी जवानों की चिंता सताने लगी है. इसलिए ये बचाव किया जा रहा है. वैक्सीनेशन कराने के बावजूद भी पुलिस कर्मी संक्रमित हो रहे हैं. इसलिए उनको संक्रमण से बचाव के लिए आला अधिकारी हिम्मत बढ़ा रहे हैं. जवानों को समझाया जा रहा है कि अगर वे मन को मजबूत रखेंगे तो बीमारी की चपेट में नहीं आएंगे.