अपना शहर चुनें

States

डकैत बबली कोल मामला: गैंगवार या एनकाउंटर, पुलिस मुख्यालय ने शुरू की इन हाउस जांच

CID जांच में सामने आएगी एनकाउंटर की सच्चाई.
CID जांच में सामने आएगी एनकाउंटर की सच्चाई.

डकैत बबली कोल (Babli Col) की मौत से पर्दा उठाने के लिए पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) ने इन हाउस जांच शुरू की है. कुछ लोग इसे एनकाउंटर तो कुछ गैंगवार बता रहे हैं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सबसे बड़े डकैत बबली कोल (Babli Col) का खात्मा जरूर हो गया है, लेकिन इस खात्मे के बाद पुलिस का एनकाउंटर (Police Encounter) का दावा विवादों में आ गया है. आपसी गैंगवार में बबली कोल और उसके साथी लवलेश की मौत होने की खबरें भी आई हैं. कई ऐसे सवाल हैं जो एनकाउंटर पर सवाल खड़े कर रहे हैं. एनकाउंटर को लेकर हो रहे विवाद के चलते ही पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) ने इन हाउस जांच शुरू कर दी है. ये जांच एनकाउंटर के फेक या फिर रियल होने को लेकर की जा रही है.

गैंगवार या एनकाउंटर?
मध्य प्रदेश के साथ उत्‍तर प्रदेश के लिए आतंक का पर्याय बने डकैत बबली कोल का खात्मा हो गया है. सतना पुलिस दावा कर रही है कि उसने बबली कोल और लवलेश को एनकाउंटर में मारा है. जबकि दूसरी तरफ ऐसी भी खबरें आ रही हैं कि आपसी गैंगवार में बबली कोल और लवलेश की मौत हुई है. एनकाउंटर को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं. बताया जा रहा है कि किसान के अपहरण से मिली फिरौती की राशि के बंटवारे को लेकर गैंग में विवाद हुआ था. इसी विवाद के चलते बबली कोल और लवलेश की गोली मारकर हत्या कर दी. विपक्ष ने भी एनकाउंटर पर सवाल उठाते हुए जांच की मांग की है.

पीएचक्यू ने एनकाउंटर की सच्चाई के लिए जांच की शुरू
एनकाउंटर पर खड़े हो रहे सवाल को लेकर पुलिस मुख्यालय ने इन हाउस जांच शुरू कर दी है. पुलिस मुख्यालय के एआईजी आशुतोष प्रताप सिंह ने बताया कि एनकाउंटर पर उठ रहे सवाल को पुलिस मुख्यालय ने गंभीरता से लिया है. मुख्यालय इस एनकाउंटर के सही और गलत को लेकर इन हाउस जांच करा रहा है. सीआईडी जांच में बबली और लवलेश की मौत से पर्दा उठेगा. जबकि ज्यूडिशियल जांच भी होगी. एनकाउंटर टीम में शामिल अधिकारियों-कर्मचारियों के बयान भी दर्ज होंगे. जब तक जांच रिपोर्ट नहीं आ जाती, तब तक पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों को किसी भी अवार्ड की प्रक्रिया में शामिल नहीं किया जाएगा.




एनकाउंटर पर उठ रहे 5 सवाल?
1-यदि एनकाउंटर हुआ, तो फिर कैसे कुछ ही घंटों में बबली कोल और लवलेश की लाश सड़-गल गई.
2-बबली कोल के पास से 12 बोर बंदूक और कट्टा मिलने का दावा किया जा रहा है. जबकि इनके पास राइफल के साथ कई अत्याधुनिक हथियार थे.
3-आखिर क्यों पुलिस अधिकारियों ने 48 घंटे तक मीडिया को मौके पर जाने से रोके रखा.
4-जब पुलिस सोमवार की शाम एनकाउंटर करने की बात कह रही है, तो शनिवार की सुबह लाश को क्यों बरामद किया गया?
5-पुलिस घेराबंदी कर फायरिंग करने का दावा कर रही है, तो सिर्फ बबली, लवलेश पर ही क्यों निशाना लगा. बाकी के 3 डकैत कैसे भाग निकले.


एआईजी आशुतोष प्रताप सिंह ने कही ये बात
आशुतोष प्रताप सिंह (एआईजी, पीएचक्यू) ने कहा कि गैंगवार को लेकर अपुष्ट जानकारी मिली है. एनकाउंटर के मामलों में सीआईडी के साथ ज्यूडिशियल जांच होती है. इस मामले की जांच भी होगी और जांच रिपोर्ट के आने के बाद ही किसी अवार्ड की प्रक्रिया शुरू होती है. जांच में पता चलेगा कि एनकाउंटर नकली है या फिर असली.

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड के सहारे चमकेगी कमलनाथ सरकार की छवि, इस अभिनेता को स्‍टेट आइकॉन बनाने की है तैयारी

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की धमकी से मचा हड़कंप, इटारसी रेलवे जंक्शन की बढ़ी सुरक्षा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज