दरिंदों को फांसी की सज़ा दिलाने में इनकी भी है भूमिका, इसलिए सीएम हाउस में मिला सम्मान

सीएम हाउस में सम्मान समारोह
सीएम हाउस में सम्मान समारोह

हाल ही में ग्वालियर और कटनी में बच्चियों से रेप के दोषियों को अदालत ने फांसी की सज़ा सुनायी है.

  • Share this:
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में उन सारे सरकारी अफसरों और कर्मचारियों को सम्मानित किया, जिन्होंने रेपिस्ट को रिकॉर्ड समय में फांसी की सज़ा दिलवाने में अपनी ज़िम्मेदारी बखूबी निभायी. इन लोगों में पुलिस, एफएसएल और सरकारी वकील सब शामिल थे.

सीएम हाउस में सम्मान समारोह हुआ. इसमें 8 ज़िलों के करीब 70 पुलिस अधिकारी-कर्मचारी और सरकारी वकील शामिल हुए. ये वो लोग थे जिन्होंने बच्चियों से रेप करने वाले दरिंदों को रिकॉर्ड समय में पकड़ा, अदालत तक मामला पहुंचाया और समय पर जांच रिपोर्ट पेश कीं. इन सबकी ज़िम्मेदारी और जवाबदारी के काऱण रेप के आरोपियों पर दोष साबित हुआ और अदालत ने उन्हें फांसी की सज़ा सुनायी.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इन सबके ज़िम्मेदाराना रवैए की सराहना की. उन्होंने कहा दरिंदों के लिए कोई मानव अधिकार नहीं हैं. यह सम्मान उन पुलिस अधिकारी कर्मचारियों को दिया है, जिन्होंने मासूमों के साथ दरिंदगी करने वालों को बेहद कम समय में फांसी की सजा दिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.



सीएम हाउस में आयोजित कार्यक्रम में CM शिवराज सिंह चौहान ने ऐसे 71 पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों एफएसएल की टीम और अभियोजन अधिकारियों को सम्मानित किया. सम्मानित होने वालों में ग्वालियर,इंदौर,धार,सागर,शहडोल,मंदसौर,दमोह, सतना के पुलिस अफसर शामिल हैं. इनके साथ
एफएसएल सागर के निदेशक डॉ.हर्ष शर्मा, DNA यूनिट के इंचार्ज डॉ अनिल कुमार सिंह और डीएनए यूनिट के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर पंकज श्रीवास्तव को भी सम्मानित किया गया.

ये भी पढ़ें - ग्वालियर-कटनी में बच्चियों से रेप करने वाले दरिंदों को कोर्ट ने सुनायी फांसी की सज़ा

औरंगजेब की शहादत का बदला लेने नौकरी छोड़ सेना में भर्ती होने पहुंचे 50 से ज्यादा                            दोस्त

11 दिन पहले पिटाई से हुई थी मौत, पुलिस ने कब्र खोदकर मुर्दे को निकाला बाहर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज