लाइव टीवी

तनाव में हैं राजधानी भोपाल के पुलिस जवान : मेडिकल रिपोर्ट में खाकी अनफिट

Jitendra Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 14, 2019, 6:41 PM IST
तनाव में हैं राजधानी भोपाल के पुलिस जवान : मेडिकल रिपोर्ट में खाकी अनफिट
राजधानी भोपाल के पुलिस वाले हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के शिकार

राजधानी भोपाल के पुलिस वालों की सेहत ठीक नहीं है. वो हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और तनाव के शिकार हैं. हालत ये है कि इनमें से कई तो रक्त दान भी नहीं कर सकते

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में राजधानी भोपाल (bhopal)के पुलिस वाले (police personnel)ही मेडिकली अनफिट (unfit) हैं. महिला पुलिस कर्मियों को खून की कमी है और पुरुष पुलिस कर्मियों का या तो ब्लड प्रेशर (blood pressure)ज़्यादा है या फिर उन्हें डायबिटीज (Diabetes) ने घेर रखा है. कई पुलिस वाले तोंदुल निकले. इन सभी को अपने खान-पान का ध्यान रखने और योग करने की सलाह दी गयी है.
हैल्थ चैकअप में सब फेल
भोपाल में सोमवार को पुलिस वालों का हैल्थ चैकअप हुआ. नतीजे हैरान करने वाले निकले. ज़्यादातर पुलिसवाले अनफिट हैं. इनकी जांच के लिए कैंप लगाया गया था. इसमें ज्यादातर महिला सिपाही एनीमिक निकलीं और पुरुष मधुमेह से पीड़ित हैं. मेडिकल कैम्प में शहर के तकरीबन 500 महिला और पुरुष कर्मीओं ने हेल्थ चेकअप कराया.इनमें से अधिकतर में एनीमिक (सामान्य हीमोग्लोबिन के स्तर से कम) के लक्षण पाए गए. जिसके बाद मेडिकल अफसरों ने पुरुष पुलिसकर्मी तोंद वाले हैं और उनमें हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज की शिकायत आम है. मोटापे के कारण ही ये दोनों बीमारियां पुलिस वालों में पल रही हैं.
रक्तदान करने लायक भी नहीं हैं पुलिसवाले

तो वैसे भी पुलिस के लिए बाधा है. तोंदुल पुलिस वाले भाग-दौड़ कैसे करेंगे. ऊपर से अगर उन्हें हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज दोनों हों तो और मुश्किल. पुलिस के मैडिकल चैकअप केंप में अधिक्तर महिला सिपाही ब्लड डोनेट करने लायक भी नहीं निकलीं. उनमें खून की इतनी कमी है कि ना तो खुद काम करने के योग्य हैं और ना ही किसी को खून दे सकती हैं. हीमोग्लोबिन के स्तर की सामान्य सीमा 12-15.5 है. लेकिन राजधानी की महिला पुलिस कर्मियों में खून की मात्रा इसमें से आधी है.
अफसरों का नया टेंशन
अपने स्टाफ की हालत देखकर आला अफसर भी परेशान हो उठे. वो घबरा गए हैं कि ऐसे कमज़ोर पुलिस वाले आख़िर कैसे अपनी ड्यूटी मुस्तैदी से कर पाएंगे. वो इस लायक भी नहीं है कि उन्हें मैदानी ड्यूटी दी जाए. आंकड़े चितांजनक है. पुलिस वालों को मोटापे-हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज सहित तनाव ने भी घेर रखा है. इस वजह से डिप्रेशन और सुसाइड के केस भी हो रहे हैं. कमज़ोर पुलिस वालों से कहा गया है कि वो रक्तदान न करें.
Loading...

अफसरों की सलाह
अफसरों ने अपने इन मातहतों को सुझाव दिया कि वो कुपोषण से बचें, डटकर खाएं. मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर की वजह ये लोग पुलिस का ओवर वर्किंग, भागमभाग दिनचर्या, अनियमित रुटीन और खान-पान में लापरवाही को मानते हैं.

ये भी पढ़ें-हॉकी खिलाड़ियों की मौत पर सीएम कमलनाथ और खेल मंत्री ने जताया शोक

5 बार हॉकी का नेशनल टूर्नामेंट खेल चुका था ग्वालियर का अनिकेत वरुण

3 बहनों का इकलौता भाई था हॉकी खिलाड़ी शाहनवाज़ हुसैन, मां को नहीं दी ख़बर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 5:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...