लाइव टीवी

MP में सियासी संकट: BJP MLA शरद कोल के इस्तीफे के बाद अब ऐसा होगा विधानसभा का गणित
Bhopal News in Hindi

News18 Madhya Pradesh
Updated: March 20, 2020, 12:33 PM IST
MP में सियासी संकट: BJP MLA शरद कोल के इस्तीफे के बाद अब ऐसा होगा विधानसभा का गणित
एमपी विधानसभा के स्पीकर ने बीजेपी विधायक शरद कोल का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में जारी सियासी संकट के बीच एक तरफ जहां मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के प्रेस कॉन्फ्रेंस का इंतजार किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर बीजेपी के एक विधायक शरद कोल (Sharad Kol) के इस्तीफे के बाद अटकलों का दौर शुरू हो गया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में जारी सियासी संकट के बीच फ्लोर टेस्ट से पहले राज्य की सियासत गरमा गई है. एक तरफ जहां मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के प्रेस कॉन्फ्रेंस का इंतजार किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर बीजेपी के एक और विधायक के इस्तीफे के बाद अटकलों का दौर शुरू हो गया है. कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के इस्तीफे के बाद बीजेपी MLA शरद कोल ने स्पीकर एनपी प्रजापति को अपना इस्तीफा सौंपा है. स्पीकर ने शुक्रवार को उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया. हालांकि शरद कोल का कहना है कि उन्होंने इस्तीफा वापस लेने के लिए आवेदन दिया था, लेकिन स्पीकर एनपी प्रजापति ने कहा कि उनका इस्तीफा स्वीकार किया गया है.

बीजेपी विधायक शरद कौल का इस्तीफा स्वीकार: स्पीकर
विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने कहा कि, 'मैंने कल रात 16 इस्तीफे स्वीकार किए थे. अब मैंने शरद कोल (भाजपा विधायक) का इस्तीफा भी स्वीकार कर लिया है. उन्होंने पहले कहा था कि उन्हें जबरदस्ती इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया था, लेकिन उनके दस्तावेजों को देखने के बाद ऐसा नहीं लगता है क्योंकि उन्होंने ने उनसे व्यक्तिगत रूप से मुलाकात भी नहीं की.'

बीजेपी विधायक शरद कोल द्वारा इस्तीफा वापस लेने के लिए लिखा गया पत्र.







विधानसभा का सूरत-ए-हाल
MP विधानसभा में कुल 230 सीटें हैं. 2 विधायकों के निधन के बाद अभी इनमें से 2 सीटें खाली हैं. इस तरह शुक्रवार को विधानसभा के कुल 228 विधायक ही प्रदेश की सरकार के बारे में फैसला करेंगे. ताजा हाल यह है कि विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए हैं. यानी इस लिहाज से अब कुल 228 में से सिर्फ 206 विधायक ही बचे हैं. यानी सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 104 विधायकों का समर्थन चाहिए.

कांग्रेस का गणित
विधानसभा में कांग्रेस के पास अभी सिर्फ 92 विधायक हैं. सरकार को समर्थन देने वाली अन्य पार्टियों की बात करें तो सपा, बसपा और निर्दलीय समेत कुल 7 विधायकों का समर्थन कमलनाथ सरकार मिला हुआ है. इस तरह कांग्रेस के पास कुल 99 विधायक हैं, यानी पार्टी अब भी बहुमत से 5 कदम दूर है.


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 12:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर