बागी विधायकों को मनाने बेंगलुरू गए कमलनाथ के मंत्रियों के साथ धक्का-मुक्की, झड़प
Bhopal News in Hindi

बागी विधायकों को मनाने बेंगलुरू गए कमलनाथ के मंत्रियों के साथ धक्का-मुक्की, झड़प
बेंगलुरु में जीतू पटवारी और लाखन सिंह गिरफ्तार

बेंगलुरू में मंत्री जीतू पटवारी और लाखन सिंह सिंधिया समर्थक विधायकों को मनाने गए थे. लेकिन जिस रिजॉर्ट में विधायक ठहरे थे, वहां पुलिस के साथ उनकी झड़प, तीखी बहस हुई.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में  जारी राजनीतिक संकट के बीच बेंगलुरू से बड़ी खबर आयी. यहां सिंधिया समर्थक मंत्रियों-विधायकों से मिलने गए कमलनाथ सरकार (kamalnath government) के दो मंत्रियों जीतू पटवारी और लाखन सिंह को पुलिस ने पकड़ लिया. हालांकि बाद में दोनों को छोड़ दिया गया. पुलिस के साथ उनकी झड़प भी हुई. कांग्रेस ने बेंगलुरू का वीडियो जारी किया जिसमें पटवारी के साथ पुलिस की धक्का-मुक्की और झड़प होती दिख रही है.



पहले खबर आयी और फिर कांग्रेस ने भी दावा किया कि बेंगलूर में मंत्री जीतू पटवारी और लाखन सिंह के साथ पुलिस ने दुर्व्यवहार किया. दोनों वहां सिंधिया समर्थकों को मनाने गए थे. लेकिन जिस रिजॉर्ट में सिंधिया समर्थक रुके थे, वहां पुलिस के साथ उनकी झड़प और तीखी बहस हुई. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा के दबाव में उसके दोनों नेताओं को गिरफ्तार किया गया. बताया जा रहा है कि रिजॉर्ट में से लगभग 9-10 विधायकों को BJP के चंगुल से बाहर निकालने में कमलनाथ के मंत्री जीतू पटवारी और लाखन सिंह कामयाब हो गए थे.
आरोप है कि ऐन वक्त पर भाजपा के दबाव में काम कर रही पुलिस ने तानाशाही करते हुए दोनों मंत्रियों को बंधक बना लिया.इन मंत्रियों के साथ विधायक मनोज चौधरी के पिता नारायण चौधरी भी हैं. चौधरी हाट पिपल्या से कांग्रेस विधायक हैं. कल सिंधिया के समर्थन में उनका वीडियो जारी हुआ था.



बीजेपी पर आरोप
इस घटना के सामने आते ही पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, मंत्री पीसी शर्मा और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने भोपाल में पीसी की. उन्होंने आरोप लगाया कि बेंगलुरू की घटना एक गम्भीर मसला और प्रजातंत्र पर हमला है. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने हमारे एमएलए को अगवा किया और उनके मोबाइल छीने.जिन्होंने यह कृत्य किया है उनपर कानूनी कार्रवाई हो.

स्पीकर ने 6 और विधायकों को भेजा नोटिस

इससे पहले मध्य प्रदेश में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने 6 और विधायकों को नोटिस जारी कर दिया है. इसे मिलाकर अब तक कुल 13 विधायकों को नोटिस जारी कर दिए गए हैं. ये सभी सिंधिया समर्थक हैं, जो अभी बेंगलुरू में हैं. विधानसभा अध्यक्ष ने 19 इस्तीफे मिलने की पुष्टि की है. उन्होंने कहा सारी कार्रवाई नियम और प्रक्रिया के तहत की जा रही है. पक्ष-विपक्ष कुछ भी हो, मैं निष्पक्ष हूं. ये देखना मेरा काम है कि विधायकों ने कहीं किसी के दवाब में तो इस्तीफा नहीं दिया है.

ये भी पढ़ें-

विधायकों ने दबाव में तो इस्तीफा नहीं दिया, ये देखना मेरा काम-स्पीकर

जयपुर छोड़ इंदौर लौटे कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला, कमलनाथ ने लगाई पहरेदारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज