लाइव टीवी

PM मोदी के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर से मध्य प्रदेश में गरमाई सियासत

News18 Madhya Pradesh
Updated: October 11, 2019, 4:49 PM IST
PM मोदी के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर से मध्य प्रदेश में गरमाई सियासत
मध्य प्रदेश के भिंड इलाके में पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर वाले पोस्टर लगे हैं.

कांग्रेस के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के भिंड दौरे ने मध्य प्रदेश की सियासत गर्मा दी है. बाढ़ (MP Floods) पीड़ितों की सहायता को लेकर सिंधिया की कमलनाथ सरकार को नसीहत, फिर पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और अमित शाह (Amit Shah) के साथ उनके पोस्टर खूब सुर्खियां बटोर रहे हैं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) कांग्रेस (Congress) की अंदरूनी राजनीति (Internal Politics) में चल रही उथल-पुथल, कुछ दिनों के लिए भले ही शांत प्रतीत हो रही हो, लेकिन हकीकत में ऐसा है नहीं. पूर्व सांसद और पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की गतिविधियां, 'सियासी तालाब में हलचल' पैदा करती ही रहती हैं. ताजा मामला भिंड (Bhind) का है.

सिंधिया बीते दिनों भिंड इलाके के अटेर में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात करने पहुंचे थे. यहां उन्होंने पहले तो बाढ़ पीड़ितों की तत्काल सहायता करने को लेकर कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) को नसीहत दी, जिसने विपक्षी बीजेपी को हमलावर होने का मौका मिल गया. रही-सही कसर भिंड में सिंधिया के स्वागत में बीजेपी की तरफ से लगाए पोस्टर ने पूरी कर दी, जिसमें ग्वालियर के 'महाराज', पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ नजर आ रहे हैं.

पोस्टर में महाराज
ज्योतिरादित्य सिंधिया का भिंड दौरा, यूं तो प्रदेश में उनकी सक्रियता की झलक-मात्र ही होती, लेकिन भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने उनके स्वागत में जो पोस्टर लगाए, उसने सियासी हवा का रुख बदलकर रख दिया है. बीजेपी के लगाए पोस्टर में ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत के साथ-साथ कुछ और सियासी बातें भी कही गई हैं. पोस्टर में जम्मू-कश्मीर से संविधान की धारा 370 हटाने को लेकर पीएम मोदी और अमित शाह को धन्यवाद देने का जिक्र है. इसमें देश का नक्शा भी दिखाया गया है, जिसमें भारत माता नजर आ रही हैं. यह पोस्टर राज्य की सियासत को गर्माने के लिए काफी है.


Loading...



भिंड में क्या कहा सिंधिया ने
कांग्रेस के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को बाढ़ पीड़ितों से मिलने भिंड के अटेर इलाके में गए थे. उन्होंने यहां पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत की और बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था. बाढ़ प्रभावितों को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कमलनाथ सरकार को नसीहत दी.

उन्होंने कहा, 'मैंने गांव की जनता से कहा है कि संकट की इस घड़ी में मैं उनके साथ खड़ा हूं, लेकिन सरकार को भी जनता के साथ खड़ा रहना ही होगा. यहां पर कई गांवों में बिल्कुल इस प्रकार की स्थिति बन गई थी जैसे समुद्र में छोटा सा टापू हो. यहां के एक दर्जन गांव में तो सर्वे कराने की भी जरूरत नहीं है. इन गांवों में शत-प्रतिशत नुकसान मानकर मुआवजा देना चाहिए. सरकार की जिम्मेदारी है कि वो संकट के समय में आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी रहे. इस सरकार की पहली जिम्मेदारी प्रदेश के अन्नदाताओं के प्रति है.'



शिवराज सिंह ने दी प्रतिक्रिया
ज्योतिरादित्य सिंधिया के भिंड में दिए गए इस बयान को सियासी हलके में प्रदेश सरकार पर प्रहार के रूप में देखा जा रहा है. इस बयान के अलग-अलग मायने निकाले जाने लगे हैं. पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने भी इसको लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है. शिवराज ने सिंधिया के बयान के साथ ट्वीट करते हुए कहा, 'न शिवराज और न जनता, अब तो आप के ही लोग आपको आईना दिखा रहे हैं और बता रहे हैं कि कर्जमाफी नहीं हुई कमलनाथ जी! क्या अब भी आपकी सरकार नहीं जागेगी? किसानों की आंखों के आंसू सूख गए, लेकिन उनके बैंक खातों में पैसे नहीं आए! लाज-शर्म बची हो तो कर्जमाफी पर जल्द से जल्द फैसला लीजिए!'

सिंधिया के बयान, फिर पोस्टर और बीजेपी की प्रतिक्रिया के बाद जाहिर है प्रदेश की राजनीति में हलचल मच गई है. अब देखना है कि इन बयानों के बाद सरकार की तरफ से क्या प्रतिक्रिया आती है.

ये भी पढ़ें -

बाढ़ पीड़ितों से मिलने भिंड पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ सरकार को दी नसीहत

'भाई' के बाद 'ताई' की बारी : महाराष्ट्र ब्राह्मण सहकारी बैंक घोटाले की खुलेंगी फाइल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिंड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 3:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...