MP कांग्रेस में डैमेज कंट्रोल की तैयारियां शुरू, मंत्रियों की 'क्लास' लगाएंगे प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया

सत्ता संगठन में समन्वय की तैयारियों में जुटे बाबरिया
सत्ता संगठन में समन्वय की तैयारियों में जुटे बाबरिया

प्रदेश में मंत्रियों के कामकाज को लेकर लगातार मिल रही शिकायतों के बाद अब पार्टी डैमेज कंट्रोल में जुट गई है. कांग्रेस समन्वय समिति के अध्यक्ष दीपक बाबरिया (Deepak Babaria) अब मंत्रियों की क्लास लगाने की तैयारी में हैं.

  • Share this:
भोपाल. कांग्रेस समन्वय समिति के अध्यक्ष दीपक बाबरिया भोपाल में मंत्रियों के साथ वन टू वन चर्चा कर पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की मिल रही शिकायतों (Complaints) से रूबरू कराएंगे, साथ ही मंत्रियों के कामकाज की रिपोर्ट भी लेंगे. इसके लिए दिल्ली से मंत्रियों के पास मैसेज पहुंचा है कि पार्टी के प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया 3 और 4 मार्च को भोपाल के गेस्ट हाउस में मंत्रियों से मुलाकात करेंगे.

अहम होगी बाबरिया की मंत्रियों के साथ चर्चा
मंत्रियों के साथ होने वाली चर्चा में बाबरिया उनके विभाग से जुड़े अब तक वचन पूरे करने की जानकारी लेंगे, साथ ही पार्टी पदाधिकारी विधायकों और कार्यकर्ताओं से मिली शिकायतों को लेकर भी चर्चा करेंगे. विधायकों में मंत्रियों के रवैए को लेकर बढ़ रही नाराजगी को लेकर भी बाबरिया मंत्रियों से वन टू वन चर्चा करेंगे. इससे पहले बाबरिया पीसीसी में पार्टी विधायकों और पदाधिकारियों से लंबी चर्चा कर चुके हैं. उसके बाद बाबरिया की 3 और 4 मार्च को होने वाली मंत्रियों के साथ वन टू वन चर्चा कई मायनों में महत्वपूर्ण होगी. जानकारी के मुताबिक, बाबरिया मंत्रियों के साथ वन टू वन चर्चा के बाद सीएम कमलनाथ से भी चर्चा करेंगे और पूरे मामले की जानकारी देंगे.

कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों से नहीं मिलते मंत्री
पार्टी की कोशिश है कि सत्ता और संगठन में तालमेल बनाया जाए, साथ ही पार्टी पदाधिकारियों और विधायकों में बढ़ रही नाराजगी को दूर किया जाए, इसको लेकर किस तरीके का रोड मैप पार्टी तैयार कर सकती है, उन तमाम बिंदुओं को लेकर भी चर्चा होगी जो पार्टी के अंदर लगातार उठ रहे हैं. दरअसल प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया को लंबे समय से कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं की तरफ से शिकायतें मिल रही हैं कि सरकार में बैठे अधिकांश मंत्री न तो पदाधिकारियों की सुन रहे हैं और न ही कार्यकर्ताओं की. कई मंत्री तो पीसीसी के पदाधिकारियों को भी समय नहीं दे रहे हैं. इस तरह की सैकड़ों शिकायतें कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी तक भी पहुंची थीं. सूत्रों की माने तो दीपक बाबरिया की इस संबंध में सोनिया गांधी से बात हुई है. इसके बाद उन्होंने सीएम कमलनाथ से बात कर मंत्रियों से वन टू वन करने का तय किया है. बाबरिया के वन टू वन के प्रोग्राम की सूचना से मंत्री असमंजस में हैं.



मंत्रियों से मांगेंगे जवाब
>> कांग्रेस के वचन पत्र में शामिल उनके विभाग से जुड़े अब तक कितने वचन पूरे हो गए हैं और आगे के वचनों पर क्या कार्यवाही हो रही है. नहीं तो क्या है कारण?
>> भोपाल में रहने के दौरान पार्टी पदाधिकारियों, विधायकों और कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए कब का समय निर्धारित है. जिलों में प्रवास के दौरान जिला कांग्रेस कार्यालय जाते हैं या नहीं?
>> विधायकों के असंतोष की वजह क्या है?
>> हफ्ते में एक दिन का समय प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में आकर कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए निकालते हैं या नहीं?
>> पूर्व की भाजपा सरकार के मंत्रियों के यहां तैनात स्टाफ में आपके यहां कितने लोग कार्यरत हैं और कबसे, इन्हें किसकी सिफारिश पर रखा है?
>> सरकारी कामों में बाहरी लोगों का हस्तक्षेप क्यों है? वे बंगलों पर किस हैसियत से बैठ रहे हैं?
>> कार्यकर्ताओं के अब तक कितने काम किए. उनके काम करने का तरीका क्या है?

सीएम, दिग्जिवय के साथ करेंगे मंत्रणा
संगठन सूत्रों की मानें तो मंत्रियों से वन टू वन करने के बाद दीपक बाबरिया, मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के साथ भी मंत्रणा करेंगे. वे सीएम को इस वन टू वन के निष्कर्षों से भी अवगत कराएंगे.

ये भी पढ़ें -

MP में नसबंदी को लेकर फिर नया फरमान, अब शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश
4 साल के बच्चे पर FIR, 2 नाबालिगों को रातभर थाने में बैठाया, MP पुलिस की इस हरकत पर उठ रहे सवाल?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज