मध्य प्रदेश की इस जेल में कैदी बना रहे गोबर से लकड़ी

भोपाल सेंट्रल जेल में गोबर से लकड़ी बनाने का कारखाना शुरू किया गया है, जिसे जेल प्रबंधन द्वारा नहीं, बल्कि खुद कैदी संचालित कर रहे हैं.

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 23, 2019, 8:47 PM IST
Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 23, 2019, 8:47 PM IST
भोपाल सेंट्रल जेल में गोबर की लकड़ी का कारखाना खोला गया है. इस कारखाने को जेल की गोशाला से संचालित किया जा रहा है. कैदी इस कारखाने को संचालित कर रहे हैं, इससे घाटे की गोशाला की आमदानी भी बढ़ी है. इस गोशाला में अब नये कारखाने को खोला गया है. ये कारखाना गोबर से लकड़ी बनाने का है, जिसे जेल प्रबंधन द्वारा नहीं, बल्कि खुद कैदी संचालित कर रहे हैं और यहां एक दिन में एक से दो क्विंटल गोबर की लकड़ी बनाई जा रही है.

कारखाना लगने से कैदियों को मिला रोजगार

जेल में गोबर से लकड़ी बना रहे कैदी
जेल में गोबर से लकड़ी बना रहे कैदी


दरअसल इस कारखाने के लगने से कैदियों को रोजगार भी मिल गया है. कैदी मेहनत से इस काम को अंजाम तक पहुंचा रहे हैं और तो और गोशाला के गोबर का भी शत-प्रतिशत इस्तेमाल हो रहा है. जेल प्रबंधन ने गोशाला के गोबर को इस्तेमाल और पर्यावरण संरक्षण के लिए इस कारखाने को खोलने का फैसला लिया है.

इस पहल से गोशाला को घाटे से उभारने की कोशिश

लकड़ी बनाने के लिए गौ शाला के गोबर का हो रहा इस्तेमाल
लकड़ी बनाने के लिए गौ शाला के गोबर का हो रहा इस्तेमाल


हर महीने गोबर की लकड़ियों से हो रही आमदानी से गोशाला को घाटे से उभारा जा रहा है. बता दें कि अभी कुछ ही महीने हुए हैं और इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आ रहे हैं. इस मशीन के लगने की वजह से दो दर्जन कैदियों को रोजगार मिल गया है.
Loading...

जेल को हो रहा मुनाफा

जेल में हर रोज गोबर से बन रही एक से दो क्विंटल लकड़ी
जेल में हर रोज गोबर से बन रही एक से दो क्विंटल लकड़ी


गोबर की लकड़ियों का पूजा-पाठ के साथ अंतिम संस्कार में इस्तेमाल किया जाता है. जेल में गो-शाला को सुचारू रूप से चलाने के लिए गोबर से लकड़ी बनाने के कारखाने को लगाया गया है, जिससे जेल को भी मुनाफा हो रहा है. साथ ही कैदियों को भी रोजगार मिल गया है

यह भी देखें- VIDEO: जेल के दीवारों के पीछे खुशनुमा माहौल, एक हजार कैदियों ने किया योग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 8:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...