Lok Sabha Election 2019 : जानिए उनके बारे में, जिनकी मॉनिटरिंग में रहा अमित शाह का MP शेड्यूल

नरेन्द्र शिवाजी पटेल
नरेन्द्र शिवाजी पटेल

नरेन्द्र पटेल पार्टी के मज़बूत संगठन और अनुशासित काडार को अपने सफल कैंपेन का श्रेय देते हैं. महीने भर तक संगठन पदाधिकारी, ज़िलाध्यक्ष, प्रभारी-सह प्रभारी,कनवीनर दिन-रात एक कर भिड़े रहे.

  • Share this:
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह लोकसभा चुनाव के दौरान मध्य प्रदेश में लगातार सक्रिय रहे. धुआंधार दौरा कर पार्टी प्रत्याशियों, पार्टी की नीतियों और काम का प्रचार किया. महीने भर तक ज़बरदस्त कैंपेन चला.लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि इस कैंपेन के पीछे किसकी रणनीति और मेहनत थी.

नरेन्द्र पटेल अमित शाह के एमपी में प्रचार अभियान का रोड-मैप बनाने वाली टीम के अहम सदस्य थे. पटेल प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य हैं. वो पिछले तीन महीने से लगातार अमित शाह के दौरे सफल बनाने के लिए रात-दिन एक किए हुए थे. ज़िम्मेदारी बड़ी थी और चुनौती भी कई थीं. एक ज़रा-सी चूक काम बिगाड़ सकती थी.

नरेन्द्र पटेल मूल रूप से रायसेन ज़िले के बाड़ी बरेली के रहने वाले हैं. उनका जन्म 21 जून 1968 को हुआ था. पिता जनसंघ के ज़माने से उससे जुड़े हुए थे. इसलिए एक तरह से पटेल को राजनीति विरासत में मिली. लेकिन उनका खुद का पॉलिटिकल करियर 1984 के बाद शुरू हुआ, जब इंदिरा गांधी हत्याकांड के बाद देश में आम चुनाव हुए. उस आम चुनाव में वो पहली बार बीजेपी के पोलिंग बूथ एजेंट बनाए गए थे. उसके बाद सियासी सफर आगे बढ़ा. वो भारतीय जनता युवा मोर्चा के रायसेन ज़िलाध्यक्ष और फिर बीजेपी के प्रदेश मंत्री बनाए गए. समय बढ़ने के साथ  नरेन्द्र पटेल का संगठन में ओहदा भी बढ़ा और वो राष्ट्रीय मंत्री बने. अब पटेल प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य हैं. साथ ही टीवी पैनलिस्ट हैं.



ये भी पढ़ें-PHOTOS : वाणिज्यिक कर अधिकारी के घर लोकायुक्त का छापा, करोड़ों का काली कमाई का ख़ुलासा
नरेन्द्र पटेल और उनकी टीम रोज अल सुबह से लेकर देर रात तक काम में जुटी रही. अमित शाह के दौरे का पल-पल का खाक़ा तैयार किया. सभा और रोड शो का समय-टाइम और जगह तय करना आसान नहीं थी. सभा किस जगह करायी जाए और किस वक्त हो कि उसका असर आस-पास के इलाकों तक जाए. स्थानीय मुद्दे क्या होंगे और लोकल नेताओं-कार्यकर्ताओं को क्या ज़िम्मदारी सौंपना है. ये सब पटेल और उनकी टीम का काम था. नेताओं, पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं के साथ लगातार चर्चा, लंबी बैठकें, व्यवस्था, मॉनिटरिंग, रियल टाइम मॉनिटरिंग, फीड बैक ये सब उनके काम का हिस्सा था.

ये भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव 2019 : बस रिजल्ट का इंतज़ार है, उसके बाद चलेगा चाबुक!

नरेन्द्र पटेल पार्टी के मज़बूत संगठन और अनुशासित काडार को अपने सफल कैंपेन का श्रेय देते हैं. महीने भर तक संगठन पदाधिकारी, ज़िलाध्यक्ष, प्रभारी-सह प्रभारी,कनवीनर दिन-रात एक कर भिड़े रहे. साथ ही वो कहते हैं कि बड़ा गर्व होता है कि पार्टी अध्यक्ष के कार्यक्रम के लिए मुझे चुना गया.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज