लाइव टीवी

नहीं होगा भोपाल का बंटवारा! दो नगर निगम न बनाने का प्रस्ताव पास

News18 Madhya Pradesh
Updated: October 22, 2019, 2:14 PM IST
नहीं होगा भोपाल का बंटवारा! दो नगर निगम न बनाने का प्रस्ताव पास
भोपाल नगर निगम की बैठक में हंगामा हुआ.

नगरीय चुनाव से ठीक पहले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल को दो हिस्सों में बांटने की तैयारी थी. शहर में दो नगर निगम बनाने का ऐलान कमलनाथ सरकार ने किया था.

  • Share this:
भोपाल. भोपाल (Bhopal) नगर निगम परिषद ने शहर में दो नगर निगम (Municipal Corporation) न बनाने से जुड़े प्रस्ताव को बहुमत से पारित कर दिया है. निगम में बीजेपी (BJP) बहुमत में है. विपक्ष में बैठे कांग्रेस (Congress) के सदस्यों के भारी विरोध और हंगामे के बीच सदन ने यह प्रस्ताव पारित कर दिया.

हाल ही में मध्‍य प्रदेश सरकार ने भोपाल में दो नगर निगम बनाने की घोषणा की थी. उसके बाद प्रदेश के अन्य बड़े शहरों में दो नगर निगम बनाने की मांग उठ रही थी. भोपाल में दो नगर निगम बनाने का फैसला लेने के संबंध में नगर निगम परिषद की विशेष बैठक बुलाई थी. पहले से ही अनुमान था कि बीजेपी शासित नगर निगम परिषद में भोपाल में दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव खारिज हो सकता है. ऐसा ही हुआ भी. परिषद ने दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव बहुमत से खारिज कर दिया.

हंगामेदार बैठक
नगर निगम में कांग्रेस अल्पमत में है. बैठक शुरू होते ही विपक्ष में बैठे कांग्रेस पार्षद सदन में आसंदी के सामने धरने पर बैठ गए और रघुपति राघव राजाराम गाना शुरू कर दिया. इसका जवाब बीजेपी की महिला पार्षदों ने दिया. उन्होंने गाया- कांग्रेस को सद्बुद्धि दे भगवान. कांग्रेस पार्षदों ने जय-जय कमलनाथ के नारे लगाने शुरू किए तो बीजेपी सदस्यों ने भारत माता की जय के नारे लगाए.

कांग्रेस की रणनीति
हंगामे के बीच कांग्रेस पार्षद बैठक से बाहर निकले और अलग कमरे में बैठकर रणनीति बनाई. बैठक में बीजेपी पार्षदों ने धर्म के नाम पर बंटवारे का आरोप लगाते हुए नारे लगाए. महापौर आलोक शर्मा ने कहा धर्म के आधार पर दो नगर निगम बनाकर भोपाल को बांटा जा रहा है.

हाल ही में हुई थी घोषणा
Loading...

नगरीय चुनाव से ठीक पहले मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल को दो हिस्सों में बांटने की तैयारी थी. शहर में दो नगर निगम बनाने का ऐलान कमलनाथ सरकार ने किया था. जिला प्रशासन ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया था, जिस पर 14 अक्टूबर तक जनता से सुझाव और आपत्ति मांगे गए थे. भोपाल को दो भागों पूर्व और पश्चिम में बांटने का प्रस्ताव था. बंटवारा होने की स्थिति में पूर्व भोपाल में 31 और पश्चिम में 54 वॉर्ड होते.

विधि मंत्री पीसी शर्मा ने न्यूज 18 से खास बातचीत करते हुए कहा था कि दो नगर निगम होने से ग्रामीण इलाकों का विकास तेजी से होगा. दिल्ली, मुंबई समेत दूसरे शहरों में एक से ज़्यादा नगर निगम की व्यवस्था है. इस व्यवस्था से शहर में छोटे वार्ड होने से बेहतर कंट्रोल होगा और लोगों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिल पाएंगी.

(भोपाल से जितेन्द्र शर्मा से मिला इनपुट)

ये भी पढ़ें-इंदौर में फैक्ट्री पर छापा : मैदा-राई से बनायी जा रही थी नकली हींग

महावत की मौत के बाद ग़म में डूबा बांधवगढ़ का सुंदर हाथी....

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...