होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /सिंधिया समर्थकों को टिकट देने का खुलकर विरोध, भोपाल में बीजेपी मुख्यालय पर हंगामा

सिंधिया समर्थकों को टिकट देने का खुलकर विरोध, भोपाल में बीजेपी मुख्यालय पर हंगामा

Bhopal BJP News. राजधानी भोपाल के वॉर्ड 66 से आए बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने प्रदेश मुख्यालय में नारेबाजी की.

Bhopal BJP News. राजधानी भोपाल के वॉर्ड 66 से आए बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने प्रदेश मुख्यालय में नारेबाजी की.

Ruckus in BJP office. गुरुवार को भोपाल में बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी प्रदेश अध ...अधिक पढ़ें

भोपाल. नगरीय निकाय चुनाव में पार्षद टिकट के लिए भी बीजेपी में जबरदस्त खींचतान हो रही है. खासतौर से इस बार ज्योतिरादित्य सिंधिया का खुले तौर पर विरोध हो रहा है. सिंधिया समर्थक नेताओं को टिकट देने का विरोध भोपाल में बीजेपी प्रदेश मुख्यालय तक पहुंच गया है. शिवराज सिंह और वीडी शर्मा की बैठक के बाद दफ्तर में ही हंगामा मच गया.

गुरुवार को भोपाल में बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा की बैठक के बाद हंगामा हो गया. जैसे ही शिवराज और वी डी प्रदेश मुख्यालय से रवाना हुए. भोपाल और सतना से आए बीजेपी कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी. यह लोग पिछले दिनों सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल हुए नेताओं को टिकट देने का विरोध कर रहे हैं. हालांकि बीजेपी मुख्यालय में हंगामा बढ़ता देख वहां मौजूद पदाधिकारियों ने उन्हें बंद कमरे में ले जाकर शांत कराया.

भोपाल में विरोध
राजधानी भोपाल के वॉर्ड 66 से आए बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने प्रदेश मुख्यालय में हंगामा किया. इन कार्यकर्ताओं का आरोप है कि वह सब मिलकर पार्टी के काम को बरसों से आगे बढ़ा रहे हैं लेकिन उनके वार्ड में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए गिरीश शर्मा को टिकट देने की तैयारी की जा रही है. इसका वो विरोध कर रहे हैं. वार्ड 66 से आए बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा से भी मुलाकात कर अपना विरोध दर्ज कराया है.

ये भी पढ़ें- अरबपति हैं इंदौर से कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी संजय शुक्ला, संपत्ति जानकर आप हो जाएंगे हैरान

इस्तीफे की तैयारी
वार्ड 66 के बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं का कहना है अगर वहां से गिरीश शर्मा का टिकट फाइनल होता है तो वार्ड की पूरी कार्यकारिणी इस्तीफा देने पर मजबूर हो जाएगी. ऐसे में किसी स्थानीय और पार्टी कार्यकर्ताओं को ही टिकट दिया जाना चाहिए.

Tags: Jyotiraditya Sindhiya, Madhya pradesh latest news, Municipal Corporation Elections

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें