लाइव टीवी

दूध में मिलावट के ख़िलाफ लोगों का गुस्सा फूटा, दु्ग्ध संघ के दफ़्तर का घेराव

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 20, 2019, 6:05 PM IST
दूध में मिलावट के ख़िलाफ लोगों का गुस्सा फूटा, दु्ग्ध संघ के दफ़्तर का घेराव
भोपाल में सिंथेटिक दूध रैकेट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में भले ही मिलावट के खिलाफ शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चल रहा है.लेकिन मिलावटखोरी (Adulteration) अभी भी जारी है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में सिंथेटिक दूध (synthetic milk) के विरोध (protest) में आम लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. भोपाल में बीजेपी नेता (bjp leader) सुरेंद्रनाथ सिंह के साथ लोग सड़क पर उतरे और मिलावट का विरोध किया.इन लोगों ने दुग्ध संघ के जीएम का घेराव कर मिलावट पर लगाम लगाने की मांग की.

मध्यप्रदेश में भले ही मिलावट के खिलाफ शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चल रहा है.लेकिन मिलावटखोरी अभी भी जारी है.दूध में मिलावट के खिलाफ पूर्व विधायक सुरेंद्र नाथ सिंह औऱ आम लोग सड़कों पर उतरे.इन लोगों ने मध्य प्रदेश दुग्ध उत्पादन संघ के दफ्तर पर हल्ला बोला. इन लोगों ने जीएम के दफ़्तर के घेराव की कोशिश की.

दूध में की जा रही थी मिलावट
हाल ही में बैतूल से भोपाल दूध लेकर आ रहे महासंघ के एक टैंकर में रास्ते में कुछ लोग मिलावट कर रहे थे. दुग्ध संघ के उत्पाद सांची का शुद्ध दूध निकालकर उसमें यूरिया से बना दूध मिलाया जा रहा था. ये सिलसिला पिछले कई महीनों से जारी था. इसकी ख़बर मिलते ही भोपाल क्राइम ब्रांच की टीम ने वहां छापा मारा था.

100 टैंकर
उस मामले में टैंकर संचालक योगेंद्र देव पांडे,दुग्ध संघ के संस्पेंड अधिकारी श्याम गुप्ता,कमल यादव और एक अन्य अधिकारी से क्राइम बांच ने पांच घंटे तक पूछताछ की थी.पूछताछ में सामने आय़ा कि योगेंद्र का इंटरस्टेट नेटवर्क है. दूसरे राज्यों के दुग्ध संघों में भी सांठगांठ का खुलासा हुआ है.मिलावट करने वाले योगेंद्र के करीब 100से ज्यादा टैंकर दूसरे राज्यों के दुग्ध संघों से भी अनुबंधित हैं.

सिंथेटिक दूध के खिलाफ अभियानकांग्रेस सरकार ने पांच महीने पहले मिलावट के खिलाफ बड़े स्तर पर शुद्ध के लिए युद्ध अभियान शुरू किया है. अभियान के दौरान सिंथेटिक दूध बनाने वाली फैक्ट्रियों पर छापा मारा गया.छापे के दौरान ही भिंड औऱ मुरैना में बड़े स्तर दूध में मिलावट का रैकेट पकड़ में आया था. दूध में पांच गुना पानी,माल्टोस डेक्सिटन पाउडर,औऱ शैंपू मिलाकर तैयार किया जा रहा था. चिकनाहट के लिए रिफाइंड
ऑयल और फिर केमिकल मिलाया जाता था.

ये भी पढ़ें-हंगामे और शोर-शराबे के बीच विधान सभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

आज ग़रीबों के लिए सड़क पर उतरे बीजेपी नेता, विधानसभा तक मार्च

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 20, 2019, 6:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर