अपना शहर चुनें

States

प्यारे मियां केस : पीड़ित नाबालिग लड़की ने की खुदकुशी की कोशिश, अधीक्षिका पर आरोप

नाबालिग बच्चियों के यौन शोषण   का आरोपी प्यारे मियां फिलहाल जेल में है.
नाबालिग बच्चियों के यौन शोषण का आरोपी प्यारे मियां फिलहाल जेल में है.

छह महीने पहले भोपाल पुलिस ने एक अखबार मालिक प्यारे मियां के खिलाफ नाबालिग बच्चियों से यौन शोषण के मामले में एफ आई आर दर्ज (FIR) की थी. उसके खिलाफ इंदौर में भी एफ आई आर दर्ज है.

  • Share this:
भोपाल.भोपाल के बहुचर्चित प्यारे मियां केस में बालिका गृह में रह रही एक पीड़ित नाबालिग लड़की ने आज खुदकुशी (Suicide) की कोशिश की. लड़की ने बालिका गृह में बड़ी संख्या में नींद की गोली खा लीं. उसकी हालत गंभीर बनी हुई है.इस पूरे मामले में बच्ची के परिवार ने बालिका गृह की अधीक्षिका पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है. मामले का मुख्य आरोपी अखबार मालिक प्यारे मियां है. उसके खिलाफ नाबालिग बच्चियों से यौन शोषण के कई मामले दर्ज हैं. प्यारे मियां फिलहाल जेल (jail) में है.

छह महीने पहले भोपाल पुलिस ने एक अखबार मालिक प्यारे मियां के खिलाफ नाबालिग बच्चियों से यौन शोषण के मामले में एफ आई आर दर्ज की थी. उसके खिलाफ इंदौर में भी एफ आई आर दर्ज है. इस मामले में प्यारे मियां और उसके परिवार को आरोपी बनाया गया था. प्यारे मियां जेल में बंद है. जबकि इस मामले की पीड़ित 5 नाबालिग  बच्चियों को कमला नगर थाना क्षेत्र स्थित बालिका गृह में रखा गया है.

अधीक्षिका पर आरोप
पीड़ित लड़की के खुदकुशी की कोशिश के बाद बालिका गृह की अधीक्षका इक्का एंथोनिया पर प्रताड़ना का आरोप लगा है. बताया गया है कि लड़की ने बड़ी संख्या में नींद की गोलियां खा लीं.उसे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने बताया कि बच्ची अभी बयान देने की स्थिति में नहीं है. उसने किस कारण से नींद की गोलियां खाई यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है. साथ ही ये गोलियां बालिका गृह में कैसे पहुंचीं इसकी भी जांच की जा रही है. इधर लड़की के परिवार  का कहना है कि वो अपनी बेटी को घर ले जाने के लिए लगातार आवेदन दे रहे थे.लेकिन बालिका गृह की तरफ से बच्चियों को उन्हें नहीं सौंपा गया.जबकि इस मामले में बालिका गृह की तरफ से यह जानकारी आ रही है कि जब तक उन्हें बाल संप्रेक्षण या फिर दूसरी एजेंसी से परमिशन नहीं मिलती, तब तक वो बच्चियों को उनके परिवार को नहीं सौंप सकते.



पॉक्सो कोर्ट में केस
यह मामला जिला कोर्ट के पॉक्सो कोर्ट में चल रहा है. इस मामले में अभी बच्चियों की गवाही कोर्ट में होना है. हालांकि कोर्ट में सुनवाई नहीं होने के कारण लंबे समय से बच्चियां बाल गृह में रह रही हैं. बालिका गृह के अधिकारियों ने बच्ची के परिवार पर मारपीट का आरोप भी लगाया है. इन तमाम तथ्यों की जांच पुलिस कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज