मध्य प्रदेश में सिंथेटिक दूध का काला कारोबार, भिंड-मुरैना से लेकर यूपी-दिल्ली तक सप्लाई

ये वो इलाका है, जहां लंबे समय से नकली दूध और मावा बनाने का रैकेट चल रहा है. समय-समय पर इसका खुलासा होता है

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 19, 2019, 8:31 PM IST
मध्य प्रदेश में सिंथेटिक दूध का काला कारोबार, भिंड-मुरैना से लेकर यूपी-दिल्ली तक सप्लाई
नकली दूध का कारोबार
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 19, 2019, 8:31 PM IST
मध्य प्रदेश में सिंथेटिक दूध का काला कारोबार चल रहा है. आज STF ने बड़ी कार्रवाई करते हुए बड़े रैकेट का खुलासा किया. भिंड-मुरैना की ऐसी 3 फैक्ट्रियों पर छापा मारा गया, जहां नकली दूध तैयार किया जा रहा था. यहां तैयार दूध-मावा उत्तर प्रदेश और दिल्ली तक सप्लाई किया जा रहा था. टीम ने दूध के लिए कैमिकल सप्लाई करने वाले दो सप्लायर्स के यहां भी छापा मारकर उन्हें गिरफ़्तार कर लिया है.

फैक्ट्री पर छापा
STF ने नकली दूध के कारोबारियों पर शिकंजा कसा. 20 टीमों ने ग्वालियर-चंबल अंचल में छापे मारे. छापे की ये कार्रवाई मुरैना के खंडेश्वरी डेयरी, लहार भिंड के गिर्राज फूड्स, गोपाल आइस फैक्ट्री और चिलिंग सेंटर पर की गयी.



टीम ने उन दुकानों पर भी छापा मारा, जहां से दूध में इस्तेमाल किया जा रहा केमिकल सप्लाई किया जाता था. केमिकल अंबाह के अग्रवाल लैबोरेट्री और लहार के नवीन स्टोर पर छापा मारा गया.



दिल्ली-यूपी में सप्लाई
Loading...

ये वो इलाका है, जहां लंबे समय से नकली दूध और मावा बनाने का रैकेट चल रहा है. समय-समय पर इसका खुलासा होता है. यहां बनाया जाने वाला नकली-दूध और मावा पूरे प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली और उत्तर प्रदेश तक सप्लाई हो रहा था.



नकली माल और कैमिकल बरामद
ग्वालियर एसटीएफ और जिला खाद्य विभाग की टीम ने लहार में जब गिर्राज फ़ूड और गोपाल आइस्क्रीम प्लांट पर छापा मारा तो मौके से बड़ी मात्रा में मिलावटी दूध,मावा और मावा बनाने में इस्तेमाल किया जाने वाला केमिकल पावडर बरामद किया गया. मुरैना में नकली दूध बनाने वाली फैक्ट्री पर छापा मारा गया तो वहां 2 हजार लीटर नकली दूध, ग्लूकोज पाउडर और कैमिकल रखा मिला.

(भोपाल से अनुराग श्रीवास्तव के साथ भिंड से अनिल शर्मा और मुरैना से दुष्यंत सिकरवार की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें-प्रियंका की गिरफ़्तारी के विरोध में टीम कमलनाथ देगी धरना


First published: July 19, 2019, 7:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...