लाइव टीवी

रेलवे की पानी बचाने की योजना से शताब्दी में बरपा हंगामा! यात्रियों ने कही ये बात

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 4, 2019, 6:18 PM IST
रेलवे की पानी बचाने की योजना से शताब्दी में बरपा हंगामा! यात्रियों ने कही ये बात
नई दिल्‍ली-भोपाल शताब्‍दी में रेलवे ने आधा लीटर पानी देने की शुरुआत की है.

नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस (New Delhi-Bhopal Shatabdi Express) के यात्रियों के लिए भारतीय रेलवे (Indian Railways) की पानी बचाने की योजना परेशानी कारण बन गई है. जी हां, रेलवे ने इस रूट पर ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों को केवल आधा लीटर पानी ही देना शुरू किया है.

  • Share this:
भोपाल. भारतीय रेलवे (Indian Railways) का नया फैसला नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस (New Delhi-Bhopal Shatabdi Express) के यात्रियों के लिए परेशानी का सबब बन गया है. आए दिन कैटरिंग सर्विस देने वाले कर्मचारियों और यात्रियों (Passengers) के बीच विवाद की स्थिति बन रही है. रेलवे ने तय किया है कि अब ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों को केवल आधा लीटर पानी ही दिया जाएगा. अगर कोई यात्री इससे ज्यादा पानी मांगता है, तो उसे इसका भुगतान ट्रेन किराए से अलग करना होगा. ये ट्रेन रोज़ाना नई दिल्ली से भोपाल और भोपाल से नई दिल्ली तक का सफर तय करती है. इस दौरान एक तरफ की यात्रा में ट्रेन को करीब साढ़े आठ घंटे का वक्त लगता है. जबकि यात्रियों का तर्क है कि इतनी लंबी यात्रा में आधा लीटर पानी काफी नहीं है. ट्रेन में आधा लीटर पानी दिए जाने का फैसला इसलिए भी यात्रियों के गले नहीं उतर रहा क्योंकि शताब्दी एक्सप्रेस में डायनमिक फेयर सिस्टम (Dynamic Fair System) लागू है, जिस वजह से यात्रियों को इस ट्रेन में अन्य ट्रेनों के मुकाबले ज्यादा किराया चुकाना पड़ता है. ये किराया घंटे और सीट के हिसाब से बढ़ता है.

प्रायोगिक तौर पर शुरु हुई है व्यवस्था
रेलवे ने शताब्दी ट्रेनों में आधा लीटर पानी मुहैया कराने की व्यवस्था तीन महीने के लिए प्रायोगिक तौर पर शुरू की है. इस दौरान यात्रियों को रेल नीर की एक लीटर के बजाए आधा लीटर की बोतल में ही पानी दिया जाएगा. अगर कोई यात्री इसके अलावा पानी मांगता है तो उसे उसका चार्ज देना पड़ेगा. भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस में भी ये व्यवस्था लागू की गई है. भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस रोज़ाना नई दिल्ली से भोपाल और भोपाल से नई दिल्ली के बीच करीब 1420 किलोमीटर की यात्रा तय करती है.

train, indian railway
शताब्दी एक्सप्रेस में डायनमिक फेयर सिस्टम लागू है.


क्या हो सकता है विकल्प ?
रेलवे का तर्क है कि ट्रेन में सफर करने वाले ज्यादातर यात्री गर्मी के सीजन को छोड़कर बाकी सीजन में पूरे एक लीटर पानी का इस्तेमाल नहीं करते और ये पानी बर्बाद जाता है. इसी को देखते हुए आधा लीटर पानी देने का फैसला किया गया है. वहीं शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा करने वाले यात्री राजेश गुप्ता की मानें तो पानी बचाने की पहल सराहनीय है, लेकिन बेहतर होगा कि यात्रियों के लिए पानी देने की व्यवस्था को वैकल्पिक कर दिया जाए. पहले यात्री को आधा लीटर पानी दिया जाए और बाद में मांगने पर आधा लीटर फिर दिया जाए, लेकिन एक लीटर पानी के लिए अतिरिक्त चार्ज न वसूला जाए.

ये भी पढ़ें-
Loading...

हनीट्रैप : आरोपी महिलाओं के जाल में फंसी थीं 6 और छात्राएं

मंत्री जीतू पटवारी ने पूर्व CM शिवराज के लिए कहा कि चूल्लु भर पानी में डूब मरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 6:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...