लाइव टीवी

फीमेल डॉग के रेस्‍क्‍यू के लिए रेलवे ने झोंकी ताकत, 6 घंटे बाद मिली सफलता

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 4, 2019, 10:17 PM IST
फीमेल डॉग के रेस्‍क्‍यू के लिए रेलवे ने झोंकी ताकत, 6 घंटे बाद मिली सफलता
रेस्क्यू के तुरंत बाद मेडिकल टीम ने फीमेल डॉग का चेकअप किया.

भोपाल (Bhopal) में रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) के जरिए एक फीमेल डॉग और उसके चार बच्चों को बचाया गया है. इस ऑपरेशन के लिए भोपाल रेल मंडल (Bhopal Rail Division) के अधिकारी और कर्मचारियों ने अपना पूरा दम लगा दिया था.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पहली बार एक अनोखा रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) किया गया, जिसमें एक फीमेल डॉग और उसके चार बच्चों को बचा छह घंटे की कवायद के बाद सुरक्षित बाहर निकाला गया. सच कहा जाए तो भोपाल में जानवरों को बचाने के लिए ऐसी जद्दोजहद इससे पहले शायद ही कभी देखने को मिली होगी. इस ऑपरेशन के लिए भोपाल रेल मंडल (Bhopal Rail Division) के अधिकारी और कर्मचारियों ने अपना पूरा दम लगा दिया था.

रेल पटरियों के बीच फंसी थी स्ट्रीट फीमेल डॉग
राजधानी भोपाल में रेल पटरियों के बीचोंबीच एक स्ट्रीट फीमेल डॉग बच्चों के साथ फंस गई थी. भोपाल रेलवे स्टेशन के आगे वेस्ट रेलवे कॉलोनी के पास रखी पटरियों में एक डॉग के चिल्लाने की आवाज आ रही थीं. 15 लेयर में 100 टन से अधिक वजन की 25-25 मीटर लंबी रेल पटरियों के बीच में डॉग फंसी हुई थी. फीमेल डॉग को बचाने के लिए भोपाल रेल मंडल के सिविल इंजीनियरिंग ब्रांच के कर्मचारियों ने कड़ी मशक्कत की और करीब 6 घंटे की मशक्कत के बाद फीमेल डॉग को सुरक्षित निकाला गया.

6 घंटे तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन

डीआरएम उदय बोरवणकर ने खुद रेस्क्यू ऑपरेशन में उपस्थित रहे. रेस्क्यू ऑपरेशन में हाइड्रा क्रेन मंगवाई गई. रात के वक्त अंधेरा होने से रेस्क्यू में दिक्कत हो रही थी, लिहाजा हाइड्रा क्रेन के काम ना करने के बाद रेलवे की दुर्घटना राहत वैन मंगवाकर लाइट जलवाई गई. रेलवे के सिविल इंजीनियरिंग ब्रांच के 15 गैगमैंन, 2 पीडब्ल्यूआई, एडीईएन (वर्क्स) रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गए. जबकि डीआरएम खुद ऑपरेशन का अपडेट ले रहे थे. रेस्क्यू ऑपरेशन जब 11.30 भी खत्म नहीं हुआ तो डीआरएम खुद घटनास्थल पर पहुंचे. यह ऑपरेशन रात करीब 9.30 बजे शुरू हुआ और 6 घंटे की कवायद के बाद फीमेल डॉग व उसके नवजात बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाला गया.

मेडिकल चेकअप भी कराया गया
रेस्क्यू के तुरंत बाद मेडिकल टीम ने फीमेल डॉग का चेकअप किया. खाने-पानी का इंतजाम भी किया गया. इसके बाद फीमेल डॉग को पीपल फॉर एनिमल एनजीओ को सौंप दिया गया. अब फीमेल डॉग और नवजात बच्चे एनजीओ की देखरेख में हैं.
Loading...

ये भी पढें-

किसान आक्रोश आंदोलन: कांग्रेस पर बरसे शिवराज, बोले- 'बेशर्म' सरकार किसानों की मदद करने के बजाए नाटक कर रही है

प्रेमिका के साथ सिनेमा-हॉल में पकड़ा गया पति तो पत्नी और साली ने जमकर की धुनाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 10:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...