कलेक्टर बने शिक्षक, अधिकारियों के साथ मिलकर बच्चों को सिखा रहे हैं ‘लाइफ मैनेजमेंट’ के गुर

मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स को अब जीवन प्रबंधन यानि लाइफ मैनेजमेंट के गुर सिखाए जा रहे हैं

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 4, 2019, 1:05 PM IST
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 4, 2019, 1:05 PM IST
मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स को अब जीवन प्रबंधन यानी लाइफ मैनेजमेंट के गुर सिखाए जा रहे हैं.  नंबरों की होड़ से बाहर निकल कर हताशा और निराशा को त्याग, सफलता के मुकाम पर पहुंचने के टिप्स छात्रों को दिए जा रहे हैं. लक्ष्य को पहचानने के साथ सही-गलत के बारे में भी जानकारी दी जा रही है. खास बात यह है कि लाइफ मैनेजमेंट के गुर शिक्षकों के साथ ही जिले के आला अधिकारी बता रहे हैं.

'बादल पे पाव' योजना का शुभारंभ 

राजगढ़ में कलेक्टर निधि निवेदिता ने कन्या स्कूल में छात्रों को पढ़ाई के टिप्स दिए और बच्चियों को अंग्रेजी, मैथ्स और साइंस पढ़ने के आसान तरीकों को भी समझाया. इसका मुख्य उद्देश्य शासकीय स्कूलों में शिक्षा के स्तर को सुधारना था. इसके अलावा कलेक्टर निधि निवेदिता ने जिले में 'बादल पे पाव' योजना का शुभारंभ किया. इस योजना के तहत तीन साल पहले स्कूल छोड़ चुकीं बच्चियों को फिर से जिले के सभी प्रखंडों के स्कूलों में दाखिले का आदेश जारी किया गया.

कलेक्टर और जिले के बड़े अधिकारी सरकारी स्कूलों में पढ़ाई के नये-नये तरीकों से गुणवत्ता में तो सुधार होगा ही, साथ ही साथ छात्रों को अपना भंविष्य संवारने में काफी मदद भी मिलेगी. स्कूल के बच्चे कलेक्टर और अधिकारी को अपने बीच पा कर बहुत खुश है और उनसे प्रेरणा ले कर उनकी तरह बनने की बात कह रहे हैं.

राजगढ़ से मनीष  के साथ भोपाल से रंजना दुबे की रिपोर्ट
ये भी पढ़ें- एम पी टूरिज्म के होटल में खाने से पहले जान लें, यहां 1 रोटी के चुकाने होंगे 100 रूपए

बूढ़े कंधों पर आपदा से निपटने की जिम्मेदारी, क्या यही है सरकार की तैयारी?
First published: July 4, 2019, 1:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...