होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

EXCLUSIVE : जेल में फूट–फूट कर रो पड़े मिर्ची बाबा, रात भर बदलते रहे करवटें

EXCLUSIVE : जेल में फूट–फूट कर रो पड़े मिर्ची बाबा, रात भर बदलते रहे करवटें

Mirchi Baba News Update. रेप के आरोप में मिर्ची बाबा 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में हैं.

Mirchi Baba News Update. रेप के आरोप में मिर्ची बाबा 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में हैं.

Mirchi Baba Latest News : भोपाल की महिला थाना पुलिस ने एक महिला से रेप के मामले में मिर्ची बाबा को गिरफ्तार किया है. कोर्ट ने मिर्ची बाबा को 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. मिर्ची बाबा भोपाल सेंट्रल जेल में बंद हैं. वो कैदी नंबर 1949 बन गए हैं. जेल मैनुअल के हिसाब से जेल के अंदर आने वाले हर विचाराधीन कैदी का रजिस्ट्रेशन किया जाता है. इसी रजिस्ट्रेशन के तहत उन्हें एक नंबर दिया जाता है. मिर्ची बाबा को 1949 नंबर मिला है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. रेप के मामले में फंसे मिर्ची बाबा जेल में  फूट-फूट कर रोने लगे. जमीन पर सोने की वजह से उन्हें नींद नहीं आयी. वो रात भर करवट बदलते रहे. जेल मैनुअल के हिसाब से उन्हें एक सामान्य विचाराधीन कैदी की तरह ही सुविधाएं दी जा रही हैं. सोने के लिए दो चादरें और तीन कंबल दिए गए हैं. मिर्ची बाबा को भोपाल पुलिस ने सोमवार आधी रात को ग्वालियर में एक होटल में पकड़ा था.

मिर्ची बाबा की जेल में पहली रात जैसे तैसे कटी. वो भोपाल सेंट्रल जेल में 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में बंद हैं. जेल सूत्रों के अनुसार मिर्ची बाबा जेल स्टाफ से बातचीत करते हुए फूट-फूट कर रोने लगे. उनका कहना था कि जिस महिला ने उन पर आरोप लगाए वह उसे जानते तक नहीं हैं. उन्हें झूठा फंसाया गया. जमीन पर सोने की वजह से मिर्ची बाबा को रात भर नींद नहीं आई. वह रात भर करवट लेते रहे. सुबह उनकी आंखें फूली हुई थीं.

कैदी नंबर 1949
भोपाल की महिला थाना पुलिस ने एक महिला से रेप के मामले में मिर्ची बाबा को गिरफ्तार किया है. कोर्ट ने मिर्ची बाबा को 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. मिर्ची बाबा भोपाल सेंट्रल जेल में बंद हैं. वो कैदी नंबर 1949 बन गए हैं. जेल मैनुअल के हिसाब से जेल के अंदर आने वाले हर विचाराधीन कैदी का रजिस्ट्रेशन किया जाता है. इसी रजिस्ट्रेशन के तहत उन्हें एक नंबर दिया जाता है. मिर्ची बाबा को 1949 नंबर मिला है.

ये भी पढ़ें- Exclusive: भोपाल के एक घर में इस तरह चल रहा था मिर्ची बाबा का अय्याशी का अड्डा, स्टाफ फरार

200 कैदियों के साथ बाबा
भोपाल सेंट्रल जेल के अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि जेल में आने वाले विचाराधीन कैदियों की सबसे पहले गेट पर तलाशी ली जाती है. उसके बाद उन्हें अष्टकोण में भेजा जाता है. अष्टकोण में तमाम तफ्तीश करने के बाद कैदी नवीन आमद बैरक वार्ड में रखा जाता है. नरगावे ने बताया कि एक आम कैदी की तरह मिर्ची बाबा को भी नवीन आमद बैरक वार्ड में रखा गया है. अक्सर इस वार्ड में करीब 200 कैदी एक साथ रहते हैं. ऐसे में मिर्ची बाबा को 200 कैदियों के बीच में रहना पड़ेगा. आम कैदी की तरह दो चादर, तीन पतले कंबल दिए गए हैं. मिर्ची बाबा जमीन पर ही लेटे हुए हैं उनकी सभी अय्याशी आप जेल में आने के बाद खत्म हो गई है.

Tags: Bhopal news update, Madhya Pradesh News Updates

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर