#RisingMP: मुख्य सचिव ने कहा, ब्यूरोक्रेसी में बुद्धिमान और अतिबुद्धिमान भी होते हैं

News18Hindi
Updated: November 14, 2017, 8:25 PM IST
#RisingMP: मुख्य सचिव ने कहा, ब्यूरोक्रेसी में बुद्धिमान और अतिबुद्धिमान भी होते हैं
मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह (बीपी सिंह) 1984 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं
News18Hindi
Updated: November 14, 2017, 8:25 PM IST
नेटवर्क18 के खास कार्यक्रम राइजिंग एमपी में मध्य प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने नौकरशाही पर बात करते हुए कहा कि ब्यूरोक्रेसी में बुद्धिमान और अतिबुद्धिमान भी होते हैं.

राजधानी भोपाल में आयोजित #RisingMP कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि सिस्टम में अजगरी प्रवृत्ति के अफसर भी होते है, जिनकी वजह से सबको दोष देना ठीक नहीं है. मुख्य सचिव ने कहा कि सिस्टम अच्छे अधिकारी को पहचानता है, उसे समय रहते पर उसका रिवॉर्ड भी दिया जाता है, यदि किसी बुरे अधिकारी पर उस समय कार्रवाई नहीं होती, तो बाद में उसे सजा दी जा सकती है.

मध्य प्रदेश में अपने अनुभव को लेकर उन्होंने कहा कि एक नंबर से मैंने यूपी कैडर मिस किया, इसके लिए मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं. उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में खुलकर बोलने के लिए आजादी है और अधिकारियों को दबाव उतना ही दिया जाता है कि जितना आप झेल सकते हो.

सिंह ने कहा, स्टूडेंट लाइफ में बहुत जल्दी हाथ उठ जाता था और आपा खो देता था लेकिन अब मुझे गुस्सा नहीं आता है और यदि आता भी है तो उस पर नियंत्रण कर लेता हूं, प्रशासनिक व्यवस्था में गुस्सा होना जरूरी है. उन्होंने कहा कि प्रशासन में ये जानना जरूरी है कि कब गुस्सा होना है, कितना गुस्सा होना है और कब गुस्सा खत्म करना है.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अफसरों के 'उल्टा टांगने' के बयान पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया था कि उन्होंने कभी ऐसी बात नहीं कही थी. मुख्य सचिव ने कहा कि उन्होंने कभी मुख्यमंत्री को असंयत भाषा का प्रयोग करते नहीं देखा.

प्रदेश में व्यापारियों पर उठ रहे सवाल पर उन्होंने कहा कि व्यापारियों पर भ्रामक तथ्यों पर आरोप लगता है. उन्होंने कहा कि हम लोग काफी समय से कोशिश कर रहे हैं कि राज्य को लॉजिस्टिक हब के रूप में विकसित करें. उन्होंने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश निवेशक फ्रेंडली राज्य है.

मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने कहा कि भोपाल का मास्टर प्लान तैयार है लेकिन कब आएगा उसके बारे में कहने के लिए सक्षम अधिकारी नहीं हूं.

 

कौन हैं मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह..!

-मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह (बीपी सिंह) 1984 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं.
-मूलत: उत्तर प्रदेश के निवासी बीपी सिंह का जन्म 1 जुलाई 1958 को हुआ.
-बीपी सिंह ने इलाहाबाद विश्वव़िद्यालय से दर्शन शास्त्र में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की.
-बीपी सिंह की प्रथम पदस्थापना जून 1985 में सहायक कलेक्टर बिलासपुर हुई.
-बीपी सिंह एसडीओ सिहोरा तथा धर्मजयगढ़ रहने के साथ-साथ अतिरिक्त कलेक्टर बैकुंठपुर भी रहे.
-जिला कलेक्टर के रूप में बीपी सिंह ने पन्ना, दुर्ग तथा ग्वालियर की कमान संभाली.
-बीपी सिंह मध्य प्रदेश बीज विकास निगम, आप्टेल, लघु उद्योग निगम, के प्रबंध संचालक रहे. --भारत सरकार में बीपी सिंह कपड़ा मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर पदस्थ रहे.
-इंदौर संभागायुक्त रहने के अलावा उन्होंने ने प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा, राजस्व तथा वन का भी अलग-अलग कार्यकाल में दायित्व संभाला.

क्या है राइजिंग मध्यप्रदेश
देश का सबसे बड़ा टीवी नेटवर्क, न्यूज 18 नेटवर्क देशभर में नए उद्देश्य और विकास की थीम को आगे बढ़ाते हुए अलग-अलग प्रदेशों के आम और विशिष्टजनों से संवाद स्थापित कर रहा है. इसी कड़ी में #RisingMP का आयोजन मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में किया जा रहा है.

मध्यप्रदेश के सबसे भरोसेमंद न्यूज चैनल ईटीवी मध्यप्रदेश के इस कार्यक्रम ‘RISING MP- 2017’ की टैग लाइन है- 'कुछ तो बात है इस प्रदेश की, जो चला है तरक्की की राह पर'. इस कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों की विशिष्ट हस्तियां भाग लेंगी, जिनमें प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल हैं.

'राइजिंग एमपी-2017' प्रदेश के ज्वलंत राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा और बहस करने के लिए एक आदर्श मंच उपलब्ध कराएगा, जो अगले साल होने वाले चुनावों के लिए विचार-विमर्श और वाद-विवाद के लिए एक आदर्श मंच साबित होगा.
First published: November 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर