लाइव टीवी
Elec-widget

MP में ख़राब सड़कें और रफ़्तार बनी जान की दुश्मन : 18 महीने में 18 हज़ार लोगों की मौत

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 21, 2019, 6:35 PM IST
MP में ख़राब सड़कें और रफ़्तार बनी जान की दुश्मन : 18 महीने में 18 हज़ार लोगों की मौत
मध्य प्रदेश में 18 महीने में 18 हज़ार लोगों की रोड एक्सीडेंट में मौत

मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में इतनी बड़ी तादाद में रोड एक्सीडेंट (road accident) होने के पीछे 12 प्रमुख कारण बताए गए हैं.इनमें खराब सड़कें, स्पीड, शराब पीना, मोबाइल पर बात करना प्रमुख कारण हैं.

  • Share this:
भोपाल. सड़क हादसों (Road accidents) में मौत के मामले में मध्यप्रदेश (madhya pradesh) के आंकड़े सदमा देने वाले हैं. यहां महज़ डेढ़ साल में 18 हज़ार लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवा चुके हैं. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ( Ministry of Road Transport) की ताजा रिपोर्ट में ये कड़वा सच सामने आया है. सड़कें ख़राब होने और मोबाइल पर बात और स्पीड के कारण एक्सीडेंट हो रहे हैं.

सरकार सड़क हादसों को रोकने के लाख दावे करती है, लेकिन केंद्र की रिपोर्ट और प्रदेश के मौजूदा 2019 के आंकड़े उन तमाम दावों की पोल खोल रहे हैं.केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की 2018 की रिपोर्ट में मध्यप्रदेश के आंकड़े शॉकिंग हैं. मध्य प्रदेश चौथे नंबर पर है फिर भी यहां डेढ़ साल में 18 हज़ार लोग रोड एक्सीडेंट के कारण मारे जा चुके हैं. मध्य प्रदेश से आगे- यूपी, महाराष्ट्र और तमिलनाडु है. 2018 में रोड एक्सीडेंट में 11 हजार 450 लोगों की मौत हुई और इस साल के शुरुआती 6 महीनों में साढ़े छह हजार लोग मारे गए.

हादसे की वजह
मध्य प्रदेश में इतनी बड़ी तादाद में रोड एक्सीडेंट होने के पीछे 12 प्रमुख कारण बताए गए हैं.इनमें खराब सड़कें, स्पीड, शराब पीना, मोबाइल पर बात करना प्रमुख कारण हैं. इसमें से 29 फीसदी मौतें हेलमेट नहीं पहनने के कारण हुईं.रिपोर्ट के अनुसार 2018 में देश में 4 लाख 67 हजार 44 सड़क हादसों में कुल 1 लाख 51 हजार 417 लोगों की मौत हुई. इसमें से मध्य प्रदेश में 11 हजार 450 लोग मारे गए.जबकि इस साल जून तक साढ़े छह हजार लोगों की मौत हो गयी. मरने वालों में सबसे ज्यादा टू व्हिलर और पैदल यात्री हैं.

2019 के ताजा आंकड़ों ने खोली पोल
इस साल जनवरी से जून 2019 तक सड़क हादसों के कारण 6 हजार 500 लोगों की मौत हुई है.2017 की तुलना में पिछले साल एक हजार से अधिक लोग हादसों के शिकार हुए. लेकिन मौजूदा आंकड़े से पता चल रहा है कि स्थिति सुधरने की बजाए बिगड़ती जा रही है. तेज रफ्तार और गलत दिशा में गाड़ी चलाने के कारण सबसे ज्यादा जानलेवा हादसे हो रहे हैं. मरने वालों में ज्यादा संख्या युवाओं की है, जो रफ्तार पर सवार रहते हैं.

हादसों पर सियासत
Loading...

विधि मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कांग्रेस सरकार सड़क हादसे रोकने के लिए हर संभव कदम उठा रही है.बीजेपी ने 15 साल में सड़कों की खराब हालत कर दी है. सड़कें ख़राब होने के कारण हादसे हो रहे हैं. बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा, कांग्रेस सरकार सिर्फ वादे कर रही है. अभी तक उसने अपने वचन पूरे नहीं किए हैं.

ये भी पढ़ें-हनी ट्रैप : भोपाल नगर निगम के अफसरों का भी था आरोपी युवतियों से कनेक्शन!

भोपाल स्टेशन पर 'एक उपन्यास' देख नाराज़ हुए रेलवे के बड़े अफसर, दी ये हिदायत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...