RSS ने घर-घर शुरू की स्क्रीनिंग, ब्लड डोनेशन, क्वारंटीन सेंटर सहित इन कामों पर कर रहे फोकस

आरएसएस के स्वयंसेवक घर-घर जाकर स्क्रीनिंग कर रहे हैं.

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में RSS ने घर-घर स्क्रीनिंग शुरू कर दी है. इस स्वयंसेवक लोगों की जांच करा रहे हैं. इससे लोगों को इलाज उचित समय पर मिलेगा. संक्रमण फैलेने से रोक लिया जाएगा.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना आपदा में लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए RSS (संघ) के स्वयंसेवक भी जुटे हैं. राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में संघ का सेवा कार्य जारी है. संघ की ओर से अब अलग-अलग कॉलोनियों में स्क्रीनिंग कर कोरोना मरीजों की पहचान की जा रही है.

RSS (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) के स्वयंसेवकों ने भोपाल के रायसेन रोड स्थित सिद्धार्थ लेक सिटी कॉलोनी में अभियान चलाकर दो दिन तक स्क्रीनिंग एवं टेस्टिंग का कार्य किया. इस दौरान यहां 60 से अधिक लोगों का रैपिड एंटीजन टेस्ट किया गया. इनमें से करीब 12 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इस दौरान उपस्थित डॉक्टर्स ने उन्हें उचित इलाज बताया.

मरीजों की पहचान होना, सही समय पर इलाज मिलना जरूरी- सेठी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भोपाल विभाग के संघचालक डॉ. राजेश सेठी ने बताया कि संक्रमण की पहचान करना और मरीजों को उचित उपचार मिलना, इस उद्देश्य से संघ की विभिन्न टोलियां भोपाल की अलग-अलग कॉलोनियों में स्क्रीनिंग एवं टेस्टिंग का काम कर रही हैं. टेस्टिंग एवं ट्रीटमेंट की पद्धति से कोरोना को फैलने से रोका जा सकता है. प्रशिक्षित स्वयंसेवक डॉक्टर्स की देखरेख में इस काम को कर रहे हैं. स्वयंसेवकों की टोली पहले घर-घर जाकर स्क्रीनिंग करती है, उसके बाद जिन लोगों में कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं, उनका रैपिड टेस्ट किया जाता है.



इन कॉलोनियों में की गई मरीजों की पहचान

डॉ. राजेश सेठी ने बताया कि भोपाल में 2 मई से स्क्रीनिंग और टेस्टिंग के काम को शुरू किया गया है. सिद्धार्थ लेक सिटी में टेस्टिंग के दौरान डॉक्टर अभिजीत देशमुख और सुनील मलिक विशेष तौर पर उपस्थित रहे. 9 मई को रायसेन रोड पर प्रभातम हाईट कॉलोनी में स्क्रीनिंग और टेस्टिंग का अभियान चलाया गया. इस दौरान मैं और हमीदिया चिकित्सालय के डॉक्टर गौरव गुप्ता उपस्थित रहे.

इन कामों का उठाया बीड़ा

आरएसएस भोपाल विभाग में कोरोना संक्रमण में लोगों की सहायता करने और उन्हें राहत पहुंचाने के लिए लगभग 12 प्रकार के कार्यों का संचालन कर रहा है. इसमें क्वारंटाइन सेंटर, आइसोलेशन सेंटर, हेल्पलाइन सेंटर, प्लाज्मा एवं रक्त दान और भोजन वितरण के काम शामिल हैं. संघ के स्वयंसेवक प्रशासन को भी सहयोग कर रहे हैं. अस्पतालों में भी मरीजों एवं उनके परिजनों को विभिन्न प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई जा रही है.