भोपाल का घमासान: साध्वी प्रज्ञा के लिए अब 'साधुओं की टोली' संभालेगी मोर्चा

साध्वी प्रज्ञा (File Photo)

वोटिंग की तारीख नजदीक आने के साथ कांग्रेस की ओर से कन्हैया कुमार और बीजेपी की तरफ से साधुओं की टोली मोर्चा संभालेगी

  • Share this:
मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट पर सियासी घमासान अब नई रंगत ले रहा है. वोटिंग की तारीख नजदीक आने के साथ कांग्रेस की ओर से कन्हैया कुमार और बीजेपी की तरफ से साधुओं की टोली मोर्चा संभालेगी. बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ बीजेपी के हिंदुत्व कार्ड को कैश कराने मैदान में है, तो दिग्विजय सिंह के समर्थन में कम्यूनिस्ट पार्टी के नेता कन्हैया कुमार आठ और नौ मई को प्रचार करने भोपाल आ रहे हैं.

भोपाल की गंगा जमुनी तहज़ीब की कस्में उठाकर बेशक चुनाव प्रचार चल रहा हो. लेकिन चुनाव अब ध्रुवीकरण की राह पकड़ चुका है. पहले दौर सॉफ्ट और हार्ड हिंदुत्व के साथ मंदिर मंदिर हुए चुनाव अब नई रंगत ले रहा है. बीजेपी के हिंदुत्व का नया आईकन बनीं प्रज्ञा भारती को समर्थन देने साध्वी उमा भारती मैदान संभाल रही हैं.

कमलनाथ के मंत्री ने ट्वीट में लिखी ऐसी बात कि प्रज्ञा ठाकुर हो गईं नाराज़

उमा भारती तो प्रज्ञा सिंह के लिए भोपाल में अलग तरह का प्रचार करने जा रही हैं जिसमें उनके मुताबिक प्रज्ञा के बलिदान का बखान होगा, तो वहीं साध्वी के प्रचार के लिए अमित शाह समेत योगी आदित्यनाथ, निर्मला सीतारमण के आने का भी शिड्यूल तैयार हो गया है.

दिग्विजय सिंह भी हिंदुत्व की काट के लिए सॉफ्ट हिंदुत्व की राह थामे हुए हैं. साधू के जवाब में इधर से भी साधू मैदान में आ रहे हैं, लेकिन कन्हैया कुमार को दिग्विजय सिंह इस चुनाव में इस तरह से पेश कर रहे हैं कि जैसे ये उनका ट्रम्प कार्ड हों. कन्हैया आठ और नौ मई को दिग्विजय के हक में भोपाल में सभाएं लेंगे.

आम वोटर की फिक्र ये है कि हिंदुत्व., राष्ट्रीय सुरक्षा, साम्प्रदायिकता, असिहष्णुता, राष्ट्रीय मुद्दे और फिर धीरे धीरे बौध्दिक विमर्श की जमीन पर बन रहे भोपाल के चुनाव में इस शहर के बुनियादी मुद्दे कहीं गुम तो नहीं हो जाएंगे.

यह भी पढ़ें- राहुल गांधी का बड़ा वादा- कर्ज वसूली के लिए किसान को नहीं डाला जाएगा जेल में

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.