होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

सड़क पर उतरे संविदा बिजली कर्मचारी, ऊर्जा मंत्री के घर पर बजायी थाली

सड़क पर उतरे संविदा बिजली कर्मचारी, ऊर्जा मंत्री के घर पर बजायी थाली

BHOPAL SAMVIDA BIJLI EMPLOYEE. संविदा बिजली कर्मचारी अपनी 11 सूत्रीय मांग पर अड़े हैं.

BHOPAL SAMVIDA BIJLI EMPLOYEE. संविदा बिजली कर्मचारी अपनी 11 सूत्रीय मांग पर अड़े हैं.

Employee News. बिजली संविदा कर्मचारियों ने भोपाल के चिनार पार्क में भजन कीर्तन थाली बजाकर प्रदर्शन किया. पिछले 10 महीने से ये कर्मचारी संविदा नीति 2018 में संशोधन की मांग कर रहे हैं. संविदा कर्मचारियों ने मीटिंग के बाद ऊर्जा मंत्री को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था. मंत्री ने कर्मचारियों के प्रतिनिधिमंडल को मिलने के लिए बुलाया. आज फिर से इन्हें आश्वासन मिला. मांग पूरी नहीं होने पर 1 मई को आगामी आंदोलन की रणनीति बनेगी.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्यप्रदेश में संविदा बिजली कर्मचारी अपने अल्टीमेटम के मुताबिक सड़क पर उतर आए. वो ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह के बंगले पर पहुंचे और थाली बजाकर प्रदर्शन किया. ये कर्मचारी संविदा नीति में संशोधन की मांग कर रहे हैं. मांग पूरी नहीं होने पर 1 मई को कर्मचारी बड़े आंदोलन की रणनीति बनाएंगे.

बिजली संविदा कर्मचारियों ने भोपाल के चिनार पार्क में भजन कीर्तन थाली बजाकर प्रदर्शन किया. पिछले 10 महीने से ये कर्मचारी संविदा नीति 2018 में संशोधन की मांग कर रहे हैं. संविदा कर्मचारियों ने मीटिंग के बाद ऊर्जा मंत्री को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था. मंत्री ने कर्मचारियों के प्रतिनिधिमंडल को मिलने के लिए बुलाया. आज फिर से इन्हें आश्वासन मिला. मांग पूरी नहीं होने पर 1 मई को  आगामी आंदोलन की रणनीति बनेगी.

संविदा नीति 2018 संशोधन की मांग
1. संविदा अनुबंध को 60 साल तक नियमित किया जाए, 3 दिन का अंतर खत्म किया जाए

2. कंपनी टू कंपनी गृह जिला ट्रांसफर नीति बनाई जाए

3. संविदा कर्मचारी का निष्कासन नियमित कर्मचारी के समान किया जाए

4. संविदा कर्मचारी को वार्षिक वेतन वृद्धि 3% किया जाए वर्तमान में ये सिर्फ 1% है

5. विद्युत संविदा कर्मचारियों को महंगाई भत्ता साल में दो बार दिया जाए, वर्तमान में वर्ष में केवल एक बार देय होता है.

6. चिकित्सा पूर्ति ,दुर्घटना बीमा, अनुकंपा नियुक्ति दी जाए एवं जोखिम भत्ता ,नेशनल हॉलिडे, रात्रि कालीन अलाउंस दिए जाएं.

7. संविदा कर्मचारी को दुर्घटना अथवा मृत्यु पर 4 लाख तक बीमा राशि दी जाती है, जिसे बढ़ाकर ₹50 लाख किया जाए.

8. परीक्षण सहायक 2013 बेच की भर्ती विसंगति दूर कर उन्हें नियमित किया जाए.

9. संविदा पॉलिसी 2018 लागू होने के बाद पूर्व, पश्चिम क्षेत्र एवं ट्रांसको कंपनी में NPS कटना बंद हो गया है पूर्व की भांति एनपीएस चालू किया जाए.

10. संविदा कर्मचारी को वर्तमान वेतन का वास्तविक 90% दिया जाए.

11. लाइन अटेंडेंट कर्मचारियों को आईटीआई पास होने के बाद भी चतुर्थ श्रेणी में रखा गया है उन्हें तृतीय श्रेणी में किया जाए.

Tags: Electricity Department, Government Employees, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर