लाइव टीवी

स्कूल में सावरकर का साहित्य : प्रिंसिपल के निलंबन पर बीजेपी ने कहा-ये वीरों का अपमान

Anurag Shrivastav | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 15, 2020, 7:31 PM IST
स्कूल में सावरकर का साहित्य : प्रिंसिपल के निलंबन पर बीजेपी ने कहा-ये वीरों का अपमान
स्कूल में सावरकर का साहित्य : प्रिंसिपल के निलंबन पर बीजेपी ने जताई आपत्ति

रतलाम (ratlam) के एक सरकारी स्कूल (government school) में वीर सावरकर (veer savarkar) की फोटो वाली किताब बंटने के मामले पर उज्जैन संभागायुक्त ने प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया है.ये साहित्य पिछले साल नवम्बर में स्कूल में बांटा गया था.

  • Share this:
रतलाम के सरकारी स्कूल (government school) में वीर सावरकर (veer savarkar) की फोटो वाली किताब बांटने पर स्कूल के प्रिंसिपल (principal) को निलंबित (suspend) कर दिया गया है. बीजेपी (bjp) ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए इसे वीरों का अपमान बताया है. पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला.

रतलाम के सरकारी स्कूल में वीर सावरकर की फोटो वाली किताब बांटी गयी. जैसे ही इसकी ख़बर सरकार को लगी आनन-फानन में स्कूल के प्रिंसिपल आर एन केरावत को निलंबित कर दिया गया. इससे गुस्साई बीजेपी हमलावर हो गयी है. शिवराज सिंह चौहान ने टविटर वॉर छेड़ दिया. उन्होंने राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित प्रिंसिपल आर एन केरावत के निलंबन की निंदा करते हुए तत्काल उनकी बहाली की मांग की. चौहान का कहना है प्रिंसिपल पर कार्रवाई करना देश की महान विभूतियों का अपमान है. पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा प्रदेश में क्रांतिकारियों का अपमान हो रहा है.वीर सावरकर का साहित्य बांटने पर कार्रवाई करना कहीं से ठीक नहीं कहा जा सकता है.

सरकार ने दी सफाई
ये साहित्य प्रिंसिपल की मौजूदगी में गैर सरकारी एनजीओ ने बांटा था. स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने इसे व्यवस्था के खिलाफ बताया. उन्होंने कहा स्कूल में यदि कोई बाहरी साहित्य बांटता है तो इसकी जिम्मेदारी प्रिंसिपल की होती है. इस कारण प्रिंसिपल पर कार्रवाई हुई है.

ये है मामला
रतलाम के एक सरकारी स्कूल में वीर सावरकर की फोटो वाली किताब बंटने के मामले पर उज्जैन संभागायुक्त ने प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया है.ये साहित्य पिछले साल नवम्बर में स्कूल में बांटा गया था. लेकिन इसकी शिकायत जब स्थानीय प्रशासन के पास पहुंची तो इसकी जांच की गई.जांच में पाया गया कि एक एनजीओ ने ये किताब स्कूल में बांटी थी. जांच के बाद स्कूल प्रिंसिपल आरएन केरावत को संभागायुक्त ने निलंबित कर दिया.

इसलिए हुआ निलंबनप्रिंसिपल आर एन केरावत गणित के विशेषज्ञ हैं और राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित हो चुके हैं.निलंबन की कार्रवाई के बाद स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि 'प्रिंसिपल की ये जवाबदारी थी कि उनकी मौजूदगी में अशासकीय संगठन के लोग कोई भी लिटरेचर बांटते हैं तो उसको उन्हें देखना चाहिए था.उसमे लापरवाही पाई गई इसलिए आयुक्त उज्जैन सम्भाग ने उन्हें निलंबित किया है.

ये भी पढ़ें-जब दिग्विजय सिंह ने कैलाश विजयवर्गीय को गले लगाया, कहा- चलो कॉफी पीते हैं

मकर संक्रांति पर नेताओं ने लड़ाए सियासी पेंच, एक-दूसरे की पतंग काटने की होड़

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 7:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर