तो क्या बंद हो जाएंगे MP के 10 हजार सरकारी स्कूल? जानिए पूरा मामला
Bhopal News in Hindi

तो क्या बंद हो जाएंगे MP के 10 हजार सरकारी स्कूल? जानिए पूरा मामला
सरकार का कहना है कि फिलहाल ऐसा कोई निर्देश नहीं दिया गया है.

स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) ऐसे स्कूलों की जानकारी जुटा रहा है जहां 20 से कम छात्र हैं. इन स्कूलों पर बंद होने का खतरा मंडरा रहा है. 

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) छात्रों की कम संख्या वाले स्कूलों को बंद करने की तैयारी कर सकता है. प्रदेश भर में ऐसे स्कूलों को चिन्हित किया जा रहा है जिनमें छात्रों की संख्या 20 से कम है. 20 से कम संख्या वाले करीब 10 से 12 हज़ार स्कूल बंद (School Closed) होने की कगार पर है. प्रदेश भर में सभी जिला शिक्षा अधिकारियों से राज्य शिक्षा केंद्र ने ऐसे स्कूलों की जानकारी मांगी है. स्कूल शिक्षा विभाग भवन, इंफ्रास्ट्रक्चर और शिक्षकों की कमी पूरा करने की जगह अब स्कूल बंद करने तैयारी में है.

प्रदेश भर में जीरो और 20 से कम छात्र संख्या वाले स्कूलों की जानकारी राज्य शिक्षा केंद्र जुटा रहा है..राज्य शिक्षा केंद्र ने प्रदेश भर के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों से कम छात्र संख्या वाले स्कूलों की जानकारी मांगी है. भोपाल जिले में 70 स्कूल चिन्हित हुए है, जहां पर छात्रों की संख्या 20 से कम है. 10 से 12 हज़ार स्कूलों पर अब बंद होने का खतरा मंडरा रहा है.

स्कूलों की हो रही लिस्टिंग



प्रदेश भर में 11 जिले ऐसे है जहां पर स्कूलों में मात्र एक ही छात्र है.  इनमें भिंड-16, श्योपुर- 10, देवास-18, शिवपुरी-16, उज्जैन 19, धार-21, खरगोन- 27, सागर-48, दमोह-27, पन्ना-27, इंदौर-10 स्कूल है. तो वहीं 14 जिलों में 20 से कम छात्र संख्या वाले स्कूल चिन्हित किए गए हैं. इनमें देवास 300, भिंड-358, बड़वानी-326, राजगढ़-429, विदिशा-368, खरगोन-365 ,नरसिंहपुर-341, छिंदवाड़ा-518, सिवनी-550 , मंडला- 513, बालाघाट- 360 ,रीवा- 493 , सतना-606, भोपाल के 70 स्कूल हैं.
ये भी पढ़ें: राजस्थान: निर्वाचित सरकारों को गिराने में लगी ताकतों को मिल मुंहतोड़ जवाब: सीएम गहलोत

स्कूल शिक्षा मंत्री बोले: फिलहाल कोई योजना नहीं

प्रदेश भर में इतनी बड़ी संख्या में स्कूलों के बंद होने के मामले के तूल पकड़ने पर स्कूल शिक्षा मंत्री ने सफाई दी है. स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का कहना है कि हर साल समीक्षा के तहत ही इस तरह की जानकारी मांगी गई है. कम संख्या वाले स्कूलों को बंद करने की फिलहाल कोई योजना नहीं है और न ही इस तरह का कोई आदेश निकाला गया है. कम संख्या वाले स्कूलों को दूसरे स्कूल में मर्ज किया जाएगा. ज्यादा छात्र संख्या वाले स्कूलों में इन छात्रों को मर्ज किया जाएगा. शिक्षकों को भी दूसरे स्कूलों में स्थानांतरित किया जाएगा. स्कूलों को बंद करने की अभी फिलहाल कोई योजना नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading