देश के जाने माने जर्नलिस्ट राजकुमार केसवानी का कोरोना से निधन, CM शिवराज ने कहा- पत्रकारिता के लिए अपूरणीय क्षति

वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी का आज कोरोना से निधन हो गया.

वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी का आज कोरोना से निधन हो गया.

वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी का आज शाम को कोरोना से निधन हो गया है. संक्रमित होने के बाद उनका भोपाल के निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था. 1984 में भोपाल गैस कांड के छह माह पहले यूनियन कार्बाइड के संयंत्र से गैस लीक होने की बात लिखकर सबसे पहले केसवानी ने ही चेताया था.

  • Share this:

भोपाल. देश के जाने-माने पत्रकार और लेखक राजकुमार केसवानी का शुक्रवार को देर शाम कोरोना से निधन हो गया. कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद उन्हें राजधानी के सरकारी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन तबीयत में सुधार नहीं होने पर उन्हें निजी बंसल अस्पताल में रेफर किया गया था, जहां पर आज उन्होंने अंतिम सांस ली. केसवानी के निधन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व सीएम कमलनाथ ने शोक व्यक्त किया है और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

शिवराज ने ट्वीट कर लिखा, "समाज व जनहित से जुड़े मामलों पर बेबाकी से कलम चलाने वाले पत्रकार राजकुमार केसवानी जी को हमने आज खो दिया. उन्हें भोपाल त्रासदी में सुरक्षा चूक की ओर हादसे से पूर्व ध्यान आकर्षित करने के लिए जाना जाता है. पत्रकारिता जगत के लिए यह अपूरणीय क्षति है।" पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट करके लिखा, 'वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी जी के दुखद निधन का समाचार प्राप्त हुआ. उनका निधन पत्रकारिता जगत की एक बड़ी क्षति है.'

उन्होंने देश के कई मीडिया संस्थानों में कार्य किया. केसवानी ने पहली बार 26 सितंबर 1982 को अपने आर्टिकल में होने वाले भोपाल गैस कांड के बारे में चेताया था. यही इस घटना में हजारों लोगों की जान चली गई थी. राजकुमार केसवानी का जन्म 26 नंवबर 1950 को हुआ था. केसवानी ने कई पत्र-पत्रिकाओं में शीर्ष पदों पर काम किया.

उन्होंने 16 जून 1984 को ही भोपाल यूनियन कार्बाइड के सयंत्र की खामियों को लेकर खबर प्रकाशित की थी. इसके बावजूद जिम्मेदारों की नींद नहीं टूटी थी. जिसके 6 महीने बाद ही भोपाल में भीषण हादसा हो गया था और उसमें हजारों भोपाल वासियों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.
केसवानी ने अपने पत्रकारिता का करियर अपने कॉलेज के दिनों में ’स्पोर्ट्स टाइम्स’ से शुरू किया था और उसके बाद उन्होंने कई पत्र-पत्रिकाओं एवं न्यूज चैनलों में शीर्ष पदों पर काम किया, जिनमें न्यूयॉर्क टाइम्स, एनडीटीवी, दैनिक भास्कर, इंडिया टुडे एवं ‘द वीक’ शामिल हैं. उन्होंने फिल्म मुगल-ए-आज़म पर एक किताब भी लिखी थी. केसवानी को वर्ष 1985 में प्रतिष्ठित बी डी गोयनका अवार्ड एवं वर्ष 2010 में प्रेम भाटिया जर्नलिज्म अवार्ड भी मिला था.

(भाषा के इनपुट्स के साथ)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज