लाइव टीवी

...महज इस वजह से आदिवासी हॉस्टल के चौकीदार ने 7 साल के छात्र को गला दबाकर मार डाला

Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 18, 2020, 10:00 AM IST
...महज इस वजह से आदिवासी हॉस्टल के चौकीदार ने 7 साल के छात्र को गला दबाकर मार डाला
पुलिस ने आदिवासी हॉस्टल के चौकीदार को गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ में उसने अपना जुर्म कबूल लिया है

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सूरज की मौत की वजह सिर पर चोट लगना बताया गया. इतना ही नहीं इसमें हत्या के बाद उसका गला दबाना भी बताया गया. रिपोर्ट में सूरज के साथ किसी तरह की ज्यादती या कुकर्म होने की बात सामने नहीं आई है

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में सात साल के छात्र की हत्या (Student Murder) का सनसनीखेज मामला सामने आया है. भोपाल के पिपलानी (Piplani) स्थित आदिवासी हॉस्टल के चौकीदार ने छात्र की गला दबाकर हत्या कर दी. हत्या की वजह भी ऐसी कि जिसे सुनकर कोई भी चौंक जाए. बताया गया कि छात्र ने हॉस्टल के टॉयलेट के गेट पर पेशाब कर दी, जिससे आग-बबूला होकर चौकीदार (Watchman) ने उसकी जान ले ली. यह घटना बीते बुधवार की है. पुलिस ने आरोपी चौकीदार को गिरफ्तार कर हत्या की गुत्थी को सुलझाने का दावा किया है. पुलिस के मुताबिक आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है.

बाथरूम के दरवाजे पर लाश
जानकारी के मुताबिक बुधवार को आदिवासी हॉस्टल के बाथरूम के गेट पर सात वर्षीय सूरज की लाश पड़ी मिली थी. वो बाथरूम गया था लेकिन जब देर तक नहीं लौटा, तो हॉस्टल में ही रहने वाला उसका बड़ा भाई दीपक उसे ढूंढ़ते हुए बाथरूम आया. वहां उसने सूरज को निढाल पड़े देखा. दीपक के शोर मचाने पर सभी इकट्ठे हो गए और फौरन हॉस्टल की वॉर्डन रेचल राम को इसकी जानकारी दी. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई. पिपलानी पुलिस सूरज को लेकर फौरन अस्पताल पहुंची, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सूरज की मौत की वजह सिर पर चोट लगना बताया गया. इतना ही नहीं रिपोर्ट में हत्या के बाद उसका गला दबाना भी बताया गया. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सूरज के साथ किसी तरह की ज्यादती या कुकर्म होने की बात सामने नहीं आई है.

seven year-old student murdered in tribal hostel, accused watchman arrested
आदिवासी हॉस्टल में सात साल के छात्र की हत्या करने के आरोप में पुलिस ने चौकीदार को गिरफ्तार किया है


टॉयलेट के दरवाजे पर की थी पेशाब
पुलिस ने शक के आधार पर हॉस्टल के चौकीदार जगदीश को हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया. पुलिस के मुताबिक घटना वाले दिन हॉस्टल के सभी बच्चे टीवी देख रहे थे. उस दौरान सूरज बाथरूम गया. बाथरूम नीचे की मंजिल पर होने की वजह से उसे वहां जाने में डर लग रहा था. सूरज ने बाथरूम के दरवाजे पर ही पेशाब कर दी. यह देख नशे में धुत जगदीश गुस्से में आग बबूला हो गया. उसने सूरज के सिर पर पीछे से डंडे से वार किया. चोट लगने से मासूम सूरज वहीं गिर गया, जिसके बाद आरोपी उसे घसीट कर वॉशरूम में ले गया. इसके बाद आरोपी ने वहां सूरज का गला घोंट दिया और लाश को वहीं छोड़कर बाहर चला गया.

मामले में हॉस्टल के दो कर्मचारी निलंबित
मासूम छात्र की हत्या के बाद पुलिस ने चौकीदार जगदीश, हॉस्टल की अधीक्षिका (सुपरिटेंडेंट) और वॉर्डन से पूछताछ की थी. हॉस्टल में हुई इस घटना के बाद भोपाल कलेक्टर तरुण पिथौड़े ने हॉस्टल अधीक्षिका रेचल राम और पर्यवेक्षण अधिकारी शकील कुरैशी दोनों को निलंबित कर मजिस्ट्रियल जांच का आदेश दिया था.

सूरज घर में सबका लाड़ला था
बता दें कि सूरज के पिता सीहोर जिले के रहटी में रहते हैं. उन्होंने इसी साल जुलाई 2019 में अपने दोनों बच्चों का एडमिशन पटेल नगर स्थित शासकीय अनुसूचित जनजाति बालक माध्यमिक शाला में कराया था. सूरज पहली कक्षा में पढ़ता था. इस हॉस्टल में 8वीं कक्षा तक के 56 बच्चे रहते हैं. जिनकी उम्र छह से 15 वर्ष तक है. इन बच्चों के साथ दो कर्मचारी जगदीश और प्रमोद भी हॉस्टल में अपनी-अपनी पत्नी के साथ रहते हैं.

ये भी पढ़ें- पूरा हुआ 'सीधा संवाद' : एक तीर से कई निशाने साध गए ज्योतिरादित्य सिंधिया

एससी-एसटी आरक्षण संशोधन विधेयक मध्य प्रदेश विधानसभा में पास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 12:03 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर