जीते जी सुरक्षित नहीं गौ-माता और फिर हो गयी नयी घोषणा
Bhopal News in Hindi

जीते जी सुरक्षित नहीं गौ-माता और फिर हो गयी नयी घोषणा
गाय पकड़ने का अभियान

गाय का एक्सीडेंट या आकस्मिक मौत होने पर श्मशाम घाट बनाकर वहां उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा

  • Share this:
लोक सभा चुनाव नज़दीक हैं और राजनैतिक पार्टियां गौ-माता की फिक्र करने लगी हैं. सत्ता संभालते ही सीएम कमलनाथ ने चेतावनी दी थी कि अब सड़कों पर गौ-माता आवारा घूमती नहीं दिखना चाहिए. और अब भोपाल के महापौर आलोक शर्मा ने गायों के लिए श्मशान घाट बनाने की घोषणा कर दी.

राजधानी भोपाल हो या प्रदेश का कोई दूसरा शहर आवारा पशु हर जगह सड़कों पर भटकते दिख जाएंगे. ये आवारा पशु दुर्घटना और लोगों की परेशान की बड़ी वजह हैं. लेकिन नेताओं को सिर्फ गाय की फिक्र है. सीएम कमलनाथ ने सख़्ती से कहा तो फौरन सिस्टम एक्शन में आ गया. इसकी शुरुआत राजधानी भोपाल से हो गयी.

ये भी पढ़ें-कमलनाथ के युवा मंत्री बोले - राहुल गांधी बनेंगे प्रधानमंत्री



भोपाल नगर-निगम ने बुधवार 16 जनवरी से सड़कों पर घूमते आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए मुहिम छेड़ दी. शहर के पांच ज़ोन से इसकी शुरुआत हुई. पशुपालन विभाग और नगर-निगम ने मिलकर अभियान छेड़ा. टीमें सुबह से निकलीं और जहां भी आवारा गाय-बैल-सांड घूमते दिखे टीम उन्हें पकड़ने के लिए दौड़ पड़ी.



ये भी पढ़ें - राशन के लिए अब नहीं लगाना पड़ेगा अंगूठा, कमलनाथ सरकार देने जा रही है नयी सुविधा

भोपाल को कैटल फ्री बनाने के लिए शहर के अलग-अलग इलाकों से 250 से ज्यादा पशुओं को पकड़कर गौ शालाओं और कांजी हाउस में पहुंचाया गया. 5 जोन से शुरू हुआ अभियान धीरे-धीरे पूरे शहर में चलाया जाएगा.भोपाल नगर निगम ने अब इससे भी आगे जाकर ये एलान कर दिया है कि गाय का एक्सीडेंट या आकस्मिक मौत होने पर श्मशाम घाट बनाकर वहां उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

अभियान के दौरान निगम के अपर आयुक्त रणवीर सिंह को नोडल अधिकारी बनाया गया है.नए और पुराने शहर के लिए दो अलग-अलग उपायुक्त तैनात किए गए हैं.निगम की गौ संवर्धन शाखा की 5 गाड़ियां और 62 कर्मचारी तैनात हैं. इनके साथ 6 गैंग प्रभारी भी हैं.

इससे पहले ही कलेक्टर सुदाम खाड़े और निगम कमिश्नर बी विजय दत्ता ने कांजी हाउस का दौरा किया. उसमें से कुछ कांजी हाउस बंद मिले. 150 से ज्यादा मवेशियों को सूखी सेवनियां स्थित जीवदया और बैरसिया रोड स्थित भारती गौशाला में शिफ्ट कराया गया. खाली हुए कांजी हाउस में कार्रवाई के दौरान पकड़े गए मवेशियों को रखा जा रहा है. मगर निगम के पास अतिरिक्त स्थान भी नहीं है जहां गौवंश को सुरक्षित रखा जा सके. गायों के अंतिम संस्कार के लिए निगम को जगह चाहिए.

नगर -निगम ने डेयरी संचालकों को चेतावनी दी है कि मवेशियों को खुला ना छोड़ें. अब तक निगम अमला मवेशियों को 225 रुपए पैनाल्टी लेकर छोड़ देता था. निगम ने कॉल सेंटर भी बनाया है. ये कॉल सेंटर दिनभर खुला रहेगा. शहर के लोग इस कॉल सेंटर में 0755-155304 नंबर पर सूचना दे सकते हैं.

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी

 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading