होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /महाकाल के चरणों में बैठी 'शिव की सरकार', जानिए क्या रखा नये कॉरिडोर का नाम

महाकाल के चरणों में बैठी 'शिव की सरकार', जानिए क्या रखा नये कॉरिडोर का नाम

Ujjain. उज्जैन में बनाए गए नये कॉरिडोर का पीएम मोदी 11 अक्टूबर को उद्घाटन करेंगे. कैबिनेट ने आज तैयारी की समीक्षा की.

Ujjain. उज्जैन में बनाए गए नये कॉरिडोर का पीएम मोदी 11 अक्टूबर को उद्घाटन करेंगे. कैबिनेट ने आज तैयारी की समीक्षा की.

Shivraj Cabinet Meeting : उज्जैन में हुई शिवराज कैबिनेट की बैठक से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया 850 ...अधिक पढ़ें

भोपाल. मध्य प्रदेश कैबिनेट आज सेवक के रूप में थी. वो बाबा महाकाल की नगरी में उनके चरणों में बैठी. बड़े फैसले लिए. बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे की तैयारी पर चर्चा और समीक्षा की गयी. नये कॉरिडोर का नया नाम रखा गया. पीएम मोदी 11 अक्टूबर को यहां कॉरिडोर का उद्घाटन करने आने वाले हैं. सरकार ने 11 अक्टूबर को उज्जैन में स्थानीय अवकाश घोषित किया है ताकि स्थानीय लोग भी पीएम के कार्यक्रम में शामिल हो सकें.

महाकाल की नगरी उज्जैन में एमपी कैबिनेट की बैठक हुई. यह सरकार सेवक के रूप में बैठक करती हुई नजर आयी. राजा के रूप में भगवान महाकाल शामिल हुए. उज्जैन में शिवराज सरकार ने आज कैबिनेट की बैठक बुलाई थी. महाकाल को उज्जैन का राजा माना जाता है. उन्हीं का राज यहां पर चलता है. जब शिवराज कैबिनेट की बैठक हुई तो महाकाल की तस्वीर को बीच में रखा गया. मुख्यमंत्री और मंत्री एक तरफ बैठे.

212 साल बाद ऐसा मौका
212 साल बाद यह ऐसा मौका था जब महाकाल के दरबार में राजा के रूप में दरबार को सजाया गया. सरकार महाकाल के साथ बैठक में शामिल हुई. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा लगभग 212 साल बाद ऐसा पहली बार मौका आया है कि सरकार सेवक के रूप में उज्जैन में बैठक कर रही है.

ये भी पढ़ें- शर्मनाक : जब देश पुरखों को पूज रहा था, 95 साल की मां को फुटपाथ पर छोड़ गए बेटा बहू

नये कॉरिडोर का नाम महाकाल लोक
उज्जैन में हुई शिवराज कैबिनेट की बैठक से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया 850  करोड़ की लागत से तैयार हो रहे महाकाल कॉरिडोर को महाकाल लोक के नाम से जाना जाएगा. सैद्धांतिक रूप से फैसला लिया गया है कि नर्मदा का जल क्षिप्रा में आएगा. फैक्ट्री का जो दूषित जल है उसे डायवर्ट करने का काम हो रहा है. क्षिप्रा नदी के किनारे रिवरफ्रंट भी विकसित होगा जिससे उज्जैन का अलग रूप निकलेगा. उन्होंने कहा यहां बाबा की सवारी निकलती है तो पुलिस बैंड भी निकलता है. अब यहां महाकाल पुलिस बैंड शुरू किया जाएगा, जिसका उपयोग त्यौहारों और पर्वों पर होगा. 36 नए पदों को भी मंजूरी दी जाएगी.

*उज्जैन में आयोजित कैबिनेट की बैठक से पहले मुख्यमंत्री ने कहा कि
*महाकाल महाराज ही सरकार हैं, यहां के राजा हैं, इसलिए आज महाकाल महाराज की धरती पर हम सभी सेवक बैठक कर रहे हैं.

*यह ऐतिहासिक पल है हम सभी के लिए. हमने कल्पना की थी कि महाकाल महाराज के परिसर का विस्तार किया जाएगा

* हमने प्रारम्भिक चरण में नागरिकों से चर्चा की, मंदिर समिति के सदस्यों से चर्चा की और उनके सुझावों को लेकर ही हमने योजना बनाई.

*एक साल में डीपीआर प्रस्तुत हुई, प्रथम चरण के टेंडर हमने चुनाव पूर्व 2018 में बुलाए.

*हमने इसके दो चरण तय किये, प्रथम चरण 351 करोड़ रुपये का था, फिर हमने द्वितीय चरण के लिए 310 करोड़ रुपये स्वीकृत किये.

*हमने कई मकान विस्थापित किये, उनको कष्ट न देते हुए 150 करोड़ रुपये की लागत से उन्हें विस्थापित किया

*रुद्रसागर को हमने पुनर्जीवित किया है. इसमें क्षिप्रा नदी का पानी रहेगा.

*मंदिर में लाइटिंग और साउंड सहित महाकाल पथ का निर्माण किया.

*दूसरे चरण में भी कई यहां काम पूर्ण होने हैं.

Tags: PM Modi, Shivraj Cabinet, Ujjain mahakal mandir, Ujjain news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें