खुशखबरी! कांस्टेबल के बाद अब टीआई बनेंगे SDOP, शिवराज सरकार जल्द लेगी फैसला

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया, ‘‘ रविवार की दोपहर को, खटोदरा थाना परिसर से ‘क्रेन’ की मदद से, जब जब्त किए गए वाहन हटाए जा रहे थे, तक एक मानव कंकाल के अवशेष बरामद हुए.’’ (File Photo)

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया, ‘‘ रविवार की दोपहर को, खटोदरा थाना परिसर से ‘क्रेन’ की मदद से, जब जब्त किए गए वाहन हटाए जा रहे थे, तक एक मानव कंकाल के अवशेष बरामद हुए.’’ (File Photo)

मध्‍य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा (Dr. Narottam Mishra) ने कहा है कि शिवराज सरकार जल्‍द टीआई को एसडीओपी (SDOP) बनाने पर फैसला ले सकती है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश पुलिस (Madhya Pradesh Police) में कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, एएसआई और सब इंस्पेक्टर के बाद अब टीआई को एसडीओपी (SDOP) बनाने पर सरकार जल्द फैसला ले सकती है. 3 स्टार वाले पुलिस अधिकारियों को अब संभाग की जिम्मेदारी मिलेगी. बता दें कि अभी तक यह पुलिस अधिकारी सिर्फ एक ही थाने तक सीमित थे, लेकिन जब इन्हें एसडीओपी का प्रभार मिल जाएगा तो इन के अंडर में एक से ज्यादा थाने आएंगे.

मध्‍य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा (Dr. Narottam Mishra) ने कहा कि सरकार टीआई को एसडीओपी बनाने पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि अभी कांस्टेबल से लेकर निरीक्षक तक को उच्च पद का प्रभार सौंपने का कार्य सरकार ने किया है.

हजारों की संख्या में होना है टीआई का प्रमोशन

मध्य प्रदेश में हजारों की संख्या में ऐसे टीआई काम कर रहे हैं जिनको प्रमोशन मिलना है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट में मामला होने की वजह से इन अधिकारियों को सालों से प्रमोशन नहीं मिला है. कई अधिकारी तो ऐसे हैं जो कि रिटायर्ड हो चुके हैं, लेकिन अब इन टीआई के लिए अच्छी खबर है. सरकार जल्द ही इस पर बड़ा फैसला लेने वाली है यानी अब इन टीआई को एसडीओपी का प्रभार मिलेगा.
मंत्री ने की स्वास्थ्य गृह विभाग की तारीफ

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना काल में जब सभी लोग घरों में थे, उस समय गृह और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी ही लोगों की सुरक्षा के लिए पीपीई किट पहनकर 45 डिग्री टेम्प्रेचर में अपने कर्त्तव्य का निर्वहन कर रहे थे. उन्होंने स्वास्थ्य और गृह विभाग के सभी कर्मचारियों का करबद्ध अभिनंदन किया. मिश्रा ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना ने सबसे अधिक रिश्तों को नुकसान पहुंचाया है. कोरोना संक्रमण के प्रसार के दौरान पत्नी ने अपने पति से, बेटे ने अपने पिता से, भाई ने अपनी बहन से कोरोना के उपचार के दौरान मिलने से परहेज किया. इतना ही नहीं मृत्यु उपरांत कई स्थानों पर अंतिम संस्कार में भी शामिल होने से इंकार कर दिया. कोरोना ने हमारी सभ्यता और संस्कृति पर प्रहार किया है. सामाजिक रिश्तों के ताने-बाने को मूल स्वरूप में लाने में सामाजिक संगठनों को आगे बढ़कर अपनी भूमिका निभानी होगी.

पीएम मोदी को बताया विश्व गुरु



नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि देश को सक्षम नेतृत्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रूप में प्राप्त हुआ है. उन्होंने कोरोना काल में साबित कर दिया है कि चुनौतियों को अवसर में बदलने का नाम नरेन्द्र मोदी है. मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सक्षम नेतृत्व में हमारा देश विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है. हमने लगभग 70 देशों को कोरोना उपचार के लिये वैक्सीन प्रदान की है. विश्व के 168 देश वैक्सीन की भारत से डिमांड कर रहे हैं. कोरोना के दौरान विश्व के कई देश तबाही की कगार पर पहुंच गये. हमारे देश में 3 महीने के लॉकडाउन के दौरान भी लोगों तक अत्यावश्यक सेवाओं को पहुंचाकर विश्व को एक नया संदेश दिया. प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में हमने साबित कर दिया कि हम मंदिर भी बना सकते हैं और वैक्सीन भी बना सकते हैं. अमेरिका, रूस के अतिरिक्त हमने भी सफलतापूर्वक वैक्सीन बनाकर बता दिया है कि चुनौतियों को अवसर में बदलने का काम भारत भी कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज