लाइव टीवी

MP के मुख्य सचिव ने ऐसा क्या किया कि शिवराज ने पूरी कैबिनेट का ही इस्तीफा मांग लिया?
Bhopal News in Hindi

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 17, 2020, 2:15 PM IST
MP के मुख्य सचिव ने ऐसा क्या किया कि शिवराज ने पूरी कैबिनेट का ही इस्तीफा मांग लिया?
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आईएएस गौरी सिंह के इस्तीफे का कारण भी यही है

पोषण आहार में भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर मुख्य सचिव (Chief Secretary) को निशाने पर लेते हुए शिवराज ने कमलनाथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. शिवराज ने इसी मामले को गौरी सिंह के इस्तीफे का कारण भी बताया.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में पोषण आहार व्यवस्था में भ्रष्टाचार की आशंका को लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) को घेरा है. शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाए हैं कि निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए पोषण आहार की व्यवस्था को बदला जा रहा है. इतना ही नहीं शिवराज सिंह ने मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव एसआर मोहंती पर सवाल खड़े करते हुए पूछा है कि आखिर उन्होंने किस हैसियत से कैबिनेट के फैसले में फेरबदल किया और क्या इस खेल में खुद सरकार की सहमति है?

शिवराज का सवाल- क्या मुख्य सचिव ने बदला सरकार का फैसला?
शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि क्या मध्य प्रदेश में एक मुख्य सचिव की इतनी हिम्मत हो सकती है कि वो कैबिनेट के फैसले को ही बदल दे. शिवराज की मानें अगर ऐसा है तो पूरी कैबिनेट को इस्तीफा दे देना चाहिए. शिवराज सिंह चौहान ने पोषण आहार व्यवस्था में निजी संस्थाओं को फायदा पहुंचाने के आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार की मिलीभगत से ये खेल चल रहा है और इसमें पैसों की बंदरबांट हो रही है. शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि बीजेपी इसके खिलाफ विरोध करेगी.

क्या है मामला ?



शिवराज सिंह के आरोपों के मुताबिक जब प्रदेश में उनकी सरकार थी तो ये व्यवस्था की गई थी कि प्रदेश में पोषण आहार का जिम्मा निजी हाथों में देने के बजाए स्व सहायता समूहों को दिया जाएगा. इसके लिए प्रदेश में 7 अलग अलग प्लांट लगाने का काम भी शुरु किया गया था. कमलनाथ सरकार के दौरान हुई कैबिनेट बैठक में भी इस व्यवस्था को जारी रखने पर सहमति बनी लेकिन कैबिनेट के फैसले के बाद मुख्य सचिव की ओर से जारी आदेश में उस बिंदु को ही गायब कर दिया गया जिसमें पोषण आहार का काम निजी संस्थाओं को न देने पर सहमति बनी थी. शिवराज सिंह चौहान ने इसी को मुद्दा बनाते हुए सवाल खड़े किए हैं.

क्या ये है गौरी सिंह के VRS के पीछे की असली कहानी?
बीते दिनों वीआरएस लेने वाली आईएएस अधिकारी गौरी सिंह को लेकर भी शिवराज ने सवाल खड़े किए. शिवराज के मुताबिक गौरी सिंह ने वीआरएस इसीलिए लिया क्योंकि वो पोषण आहार का जिम्मा निजी संस्थाओं को देने का विरोध कर रही थीं. इस सरकार में भ्रष्ट अधिकारियों का खामियाजा इमानदार अफसरों को उठाना पड़ रहा है. हालांकि गौरी सिंह के वीआरएस को लेकर सरकार का पक्ष ये था कि उन्हें किसी दूसरी जगह नौकरी मिली है इस वजह से वो वीआरएस ले रही हैं.

ये भी पढ़ें -
इंदौर पहुंची काशी महाकाल एक्सप्रेस, यात्रियों के लिए पोहा जलेबी, दाल बाफले की व्यवस्था
मां का आशीर्वाद लेकर नई जिम्मेदारी के लिए रवाना हुए वीडी शर्मा, कहा दमदारी से लड़ेंगे जौरा-आगर मालवा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 2:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर