एक्शन में शिवराज सरकार: खाद के अवैध भंडारण पर 14 FIR, 32 मामलों में लाइसेंस निरस्त
Bhopal News in Hindi

एक्शन में शिवराज सरकार: खाद के अवैध भंडारण पर 14 FIR, 32 मामलों में लाइसेंस निरस्त
शिवराज सिंह चौहान. फाइल फोटो.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में खाद की किल्लत और कालाबाजारी के मुद्दे को लेकर सियासत गरमा गई है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में खाद की किल्लत और कालाबाजारी के मुद्दे को लेकर सियासत गरमा गई है. पूर्व कृषि मंत्री सचिन यादव (Sachin Yadav) के यूरिया खाद की कालाबाजारी के आरोप के बाद शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) सरकार एक्शन मोड पर आ गई है. प्रदेश सरकार ने उर्वरक के अवैध भंडारण परिवहन और बिक्री पर सख्त निगरानी शुरू कर दी है. जिला कलेक्टरों को खाद यूरिया वितरण व्यवस्था की मॉनिटरिंग के निर्देश जारी हुए है. साथ ही अफसरों को औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं पर नजर रखने को कहा गया है. राज्य सरकार ने उर्वरक का अवैध भंडारण करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करना भी शुरू कर दिया है.

प्रदेश में अलग-अलग जिलों में हुई कार्रवाई में 14 एफआईआर दर्ज की गई है. वहीं 9 प्रकरणों में लाइसेंस निरस्त हुए हैं. जबकि 23 मामलों में लाइसेंस निलंबित कर दिए गए हैं. 2 मामलों में उर्वरक भंडारण सीज किया गया है. छिंदवाड़ा में तीन एफआईआर दर्ज हुई है. बिना बिल के उर्वरक बेचने पर एक लाइसेंस निरस्त कर 3 प्रकरणों में निलंबन की कार्रवाई की गई है. सिवनी में यूरिया का अवैध भंडारण करने पर दो प्रकरणों में एफआईआर और दो प्रकरणों में उर्वरक भंडारण सीज कर एफआईआर की कार्रवाई की गई है.

ये भी पढ़ें: चुनाव से पहले बिहार में कास्ट पॉलिटिक्स, क्या जाति देख कर लोगों की मदद करती है नीतीश सरकार?



यहां लाइसेंस निरस्त
बड़वानी में 3 प्रकरणों में लाइसेंस निलंबन किए गए हैं. छतरपुर में एक एफआईआर दर्ज हुई है. नरसिंहपुर में अवैध परिवहन और भंडारण पर एफआईआर और 2 मामलों में निलंबन की कार्रवाई हुई है. बैतूल में यूरिया के अवैध भंडारण के एक प्रकरण में लाइसेंस निलंबित किया गया है. होशंगाबाद में 3 प्रकरणों में एफआईआर हुई है. खरगोन में एक लाइसेंस निलंबित हुआ है. धार में भी अवैध भंडारण के एक प्रकरण में एफआईआर दर्ज की गई है. वहीं राज्य सरकार ने दावा किया है कि प्रदेश में किसानों के लिए पर्याप्त मात्रा में उर्वरक उपलब्ध है. बीते साल से 3.03 लाख मैट्रिक टन ज्यादा यूरिया वितरित किया जा रहा है. किसान अपनी जरूरत के मुताबिक उर्वरक ले सकते हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी जिलों में सेवा सहकारी समितियों और विपणन संघ के गोदामों में पर्याप्त उर्वरक होने की बात कही है. सीएम शिवराज ने दावा किया है कि किसी भी उर्वरक की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज