Assembly Banner 2021

जन्‍मदिन विशेष: ...जब छात्र शिवराज की शरारतों से टीचर हो गए थे परेशान, जानें उनके शिक्षक से अनसुनी कहानी

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज अपना 62वां जन्मदिन मना रहे हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज अपना 62वां जन्मदिन मना रहे हैं.

Happy Birthday CM Shivraj: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को अपना 62वां जन्मदिन मना रहे हैं. CM शिवराज में बचपन से ही लीडरशिप की क्षमता थी और इसे पहचाना था उनके गुरु केसी जैन ने. न्यूज18 से बता रहे हैं स्कूल डेज में कैसे थे शिवराज.

  • Last Updated: March 5, 2021, 8:52 AM IST
  • Share this:
भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) शुक्रवार को अपना 62वां जन्मदिन (62nd Birthday) मना रहे है. बचपन से ही शिवराज में नेतृत्व क्षमता थी. उनमें लीडरशिप क्वालिटी स्कूल के दिनों में ही देखने को मिली थी. मध्‍य प्रदेश की कमान संभालने वाले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने टीटी नगर स्थित मॉडल स्कूल से पढ़ाई की थी. मॉडल स्कूल से ही उनकी छात्र राजनीति की शुरुआत भी हुई.

मॉडल स्कूल में शिवराज के शिक्षक और प्रिंसिपल केसी जैन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के व्यक्तित्व को न सिर्फ निखारा, बल्कि उनमें छुपी नेतृत्व क्षमता और लोकप्रियता को भी देखा है. राजनीतिक जीवन की सीढ़ियां चढ़ने के बाद भी शिवराज में शिक्षकों के प्रति सम्मान आज भी है. केसी जैन से जानते हैं छात्र शिवराज और सीएम शिवराज के अनछुए किस्सों को...

बचपन से ही छात्रों के प्रिय और लोकप्रिय थे शिवराज
शिवराज के जन्मदिन पर बधाई देते हुए शिक्षक केसी जैन का कहना है कि उनको बचपन से ही अन्याय सहन नहीं था. गलत बात सहन नही करते थे. गलत बात का खुलकर विरोध करते थे. बेबाकी के चलते शिवराज सभी छात्रों के प्रिय थे. छात्र संघ चुनाव में सभी छात्रों ने ही शिवराज का नाम आगे बढ़ाया था. छात्रों ने ही शिवराज के लिए प्रचार किया और सभी छात्रों ने इत्र की शीशी खरीदी. कागज की पर्ची पर इत्र की बूंदों से वोट डाला गया था. लोकप्रियता के चलते शिवराज स्कूल में छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए.
गोवा ट्रिप पर हुई थी शिवराज की पिटाई


शिक्षक केसी जैन का कहना है स्कूल ट्रिप गोवा गया था, तब लौटते समय स्टूडेंट काफी शरारत कर रहे थे. सुनसान एरिया होने के चलते टीचर के बार-बार बोलने के बाद भी बच्चे शांत नहीं हुए थे. केसी जैन बताते हैं कि शिवराज को पहले तो डांट पड़ी, फिर दो-तीन चांटे भी लगे थे. गोवा में ब्रेक फेल होने पर शिवराज ही सबसे पहले मदद के लिए आगे आए थे. शिवराज की निडरता से हम सबकी जान बच सकी थी.

सांसद बनने के बाद भी भीड़ में छूए थे शिक्षक के पैर
राजनीति में आने के बाद भी शिवराज पहले जैसे ही रहे. शिक्षक केसी जैन ने बताया कि नेमावर में आचार्यजी आये थे, तब मैं पूरे परिवार के साथ गया था. उस वक्‍त शिवराज ने देखा तो भीड़ में सबसे पहले मेरे पास आये और मेरे और मेरी पत्नी के पैर छूकर आशीर्वाद लिया. चेतक ब्रिज के शुभारंभ पर मैं वहीं मौजूद था. शिवराज को किसी ने बताया कि आपके गुरु भी यहीं हैं तो वह मुझसे मिलने आ गए. केसी जैन बताते हैं कि उनके कहने पर शिवराज सिंह चौहान उनके घर भी गए थे. वहां वह 20 से 25 मिनट बैठे और स्कूल की सारी पुरानी बातें साझा कीं.

जब स्‍कूल पहुंचे थे सीएम शिवराज
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान टीटी नगर स्थित मॉडल स्कूल के छात्र रहे हैं. बतौर प्रिंसिपल केसी जैन ने साल 2005 में जब पूर्व छात्रों का मिलन समारोह आयोजित किया, तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह उसमें शामिल हुए थे. इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्‍कूल की सभी कक्षाओं में जाकर पुरानी यादें ताजा कीं. उनके कहने पर इस स्‍कूल को आधुनिक रूप भी दिया गया. यहां अब एक ऑडिटोरियम भी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज