शिवराज कैबिनेट का यह है पूरा गणित, जानें MP के किस इलाके से कितने मंत्री
Bhopal News in Hindi

शिवराज कैबिनेट का यह है पूरा गणित, जानें MP के किस इलाके से कितने मंत्री
शिवराज सरकार के कैबिनेट में यशोधरा राजे सिंधिया ने आज मंत्रीपद की शपथ ली. (फोटोः Jansampark MP)

मध्य प्रदेश की प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel) ने 28 विधायकों को मंत्रीपद की शपथ दिलाई. मंत्रिमंडल में चंबल संभाग के विधायकों की बहुतायत है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) की सरकार के गठन के लगभग 4 महीने बाद आज आखिरकार मंत्रिमंडल तैयार हो गया है. आज सुबह मध्य प्रदेश की प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel) ने 28 विधायकों को मंत्रीपद की शपथ दिलाई. महीनों की माथापच्ची, पार्टी हाईकमान के साथ कई बैठकों और विधायकों की मांग-दबाव के बीच इन 28 लोगों के नाम तय किए गए. मंत्रिमंडल (Shivraj Cabinet) गठन में इस बात का ख्याल रखा गया कि मध्य प्रदेश के सभी क्षेत्रों- मालवा, निमाड़, चंबल, महाकौशल आदि का ध्यान रखा जाए. हालांकि सियासी जानकार बताते हैं कि बीजेपी में ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के आने की वजह से मंत्रिमंडल में चंबल क्षेत्र का दबदबा दिख रहा है, लेकिन कमोबेश सभी इलाकों को तरजीह देने की कोशिश जरूर की गई है.

लंबे इंतज़ार, मशक्कत और भारी माथापच्ची के बाद आख़िरकार मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया. भोपाल में राजभवन में सादगी और गरिमामय समारोह में प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 28 नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इस विस्तार में सिंधिया खेमे से 9 और कांग्रेस से भाजपा में आए तीन चेहरों सहित बीजेपी के 16 विधायक को जगह मिली. बीजेपी के पुराने कई चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिल पायी. आज के विस्तार के बाद अब शिवराज मंत्रिमंडल (shivraj government) में 33 सदस्य हो गए हैं. महाकौशल क्षेत्र से सिर्फ 1 मंत्री को जगह मिली है वहीं सिंधिया के इलाके ग्वालियर-चंबल से 11 मंत्री बनाए गए हैं.

कैबिनेट का क्षेत्रीय गणित
- 28 में से 11 मंत्री ग्वालियर चंबल संभाग, पहले से एक मंत्री को मिलाकर इस संभाग के कुल 33 मंत्री हो गए.
- मालवा से आज 7 मंत्री बने, कुल मिलाकर 8


- निमाड़ से कुल 2 मंत्री बने
- मध्य क्षेत्र से कुल 3 नाम शामिल
- बुंदेलखंड से आज 3 मंत्री बने कुल संख्या 4
- महाकौशल से केवल एक नाम.
- विंध्य से आज 2 मंत्री बने, कुल 3 हुए

ये भी पढ़ें- Opinion: शिवराज सिंह चौहान के 'समझौता मंत्रिमंडल' से उभरी बीजेपी की नई तस्वीर

समीकरण साधने की वजह से अटका था विस्तार

आपको बता दें कि शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में देरी के पीछे पहले तो कोरोना वायरस और दूसरी वजह क्षेत्रवार संतुलन की मुश्किलें ही थीं. इस संतुलन को साधने के लिए ही भोपाल से लेकर दिल्ली तक लगातार बैठकें हो रही थीं. इस संतुलन को कैसे साधा जाए, इस पर जिच थी. यही वजह है कि शिवराज के दिल्ली दौरे के बाद भी कुछ शिकवे-शिकायत थे. लेकिन बीजेपी हाईकमान और प्रदेश के नेताओं के बीच लगातार मंथन के बाद आखिरकार इसे फाइनल कर लिया गया.

बीजेपी में कुछ महीने पहले शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों की मंत्रिमंडल में संख्या अच्छी-खासी है. कैबिनेट विस्तार से पहले इसको लेकर भी काफी मशक्कत सीएम शिवराज को करनी पड़ी है. सियासी गलियारों में यह चर्चा जोरों पर थी कि सिंधिया अपने समर्थक विधायकों में से अधिकतर को मंत्रीपद दिलवाने का दबाव बना रहे थे. आज मंत्रिमंडल गठन होने के बाद जो मौजूदा स्वरूप दिख रहा है, वह इस बात की तस्दीक भी करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज