Home /News /madhya-pradesh /

Lockdown में फंसे लोगों को उनके घर पहुंचाएगी शिवराज की ये 'स्पेशल 7' टीम

Lockdown में फंसे लोगों को उनके घर पहुंचाएगी शिवराज की ये 'स्पेशल 7' टीम

लॉकडाउन में फंसे प्रवासी लोगों के लिए गृह मंत्रालय ने बुधवार को नई गाइडलाइंस जारी की थी. (फाइल फोटो)

लॉकडाउन में फंसे प्रवासी लोगों के लिए गृह मंत्रालय ने बुधवार को नई गाइडलाइंस जारी की थी. (फाइल फोटो)

गृह मंत्रालय की ओर से गाइडलाइंस जारी होने के बाद अब शिवराज सरकार ने दूसरे राज्य में फंसे मध्य प्रदेश के लोगों और मध्य प्रदेश में फंसे दूसरे राज्यों के लोगों को निकालने के लिए तैयारी शुरू कर दी है.

भोपाल. केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) के निर्देश के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने फंसे हुए प्रवासी लोगों को निकालने के लिए अधिकारियों की एक नई टीम बनाई है. यह अधिकारी अन्य राज्यों की टीम के साथ समन्वय कर यह सुनिश्चित करेंगे कि जिन लोगों को मध्य प्रदेश से बाहर जाना है या बाहर से मध्य प्रदेश आना है, उनकी मदद की जा सके. सरकार ने इसके लिए 7 आईएएस अधिकारियों को जिम्मा दिया है. सभी अधिकारियों को अलग-अलग राज्यों की जिम्मेदारी दी गई है. यह अधिकारी उन राज्यों में वहां के समन्वय अधिकारियों के साथ संपर्क में रहकर लोगों को लाने और ले जाने की व्यवस्था को सुनिश्चित करेंगे.

स्पेशल 7 की ये है टीम
मलय श्रीवास्तव - गुजरात, राजस्थान
मनु श्रीवास्तव - उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब
नीरज मंडलोई - दिल्ली, हरियाणा
दीपाली रस्तोगी - महाराष्ट्र, झारखंड
आईरिन सिंथिया - तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी
वी किरण गोपाल - आंध्र प्रदेश,  तेलंगाना, छत्तीसगढ़, उड़ीसा
इलैया राजा टी - कर्नाटक और गोवा

अब तक इतने मजदूर पहुंचे घर
मध्य प्रदेश सरकार फिलहाल अन्य प्रदेशों में फंसे मजदूरों को उनके घर पहुंचाने का काम कर रही है. प्रदेश के ऐसे 35,000 मजदूरों को अब तक उनके घर पहुंचाया जा चुका है. इनमें वे मजदूर शामिल हैं जो महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, गोवा, हरियाणा जैसे राज्यों में फंस गए थे. एक आंकड़े के मुताबिक मध्य प्रदेश के करीब 1,14000 मजदूर 18 अलग-अलग राज्यों में लॉकडाउन के बाद फंसे हुए हैं.

क्या है MHA की नई गाइडलाइंस
लॉकडाउन में फंसे प्रवासी लोगों के लिए गृह मंत्रालय ने बुधवार को नई गाइडलाइंस जारी की थी. गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइंस के मुताबिक, अगर किसी राज्‍य में फंसा कोई व्‍यक्ति दूसरे राज्‍य में जाना चाह रहा है तो इसके लिए दोनों राज्‍यों की सरकारें आपस में बातचीत कर के उपयुक्‍त कदम उठाएं. लोगों को सड़क के रास्‍ते ले जाया जाए. लोगों को भेजने से पहले सभी की मेडिकल जांच (स्‍क्रीनिंग) की जाए. अगर कोरोना वायरस संक्रमण का कोई लक्षण नहीं पाया जाता है तो उन्‍हें जाने की अनुमति दी जाए. गृह मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार फंसे लोगों को भेजने के लिए बसों की व्‍यवस्‍था की जाए. इन बसों को अच्‍छी तरह से सैनिटाइज किया जाए. साथ ही इसमें बैठने के दौरान सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियम अपनाए जाएं.

ये भी पढ़ें-

COVID-19: मध्य प्रदेश में 24 घंटे में आए 65 नए मामले, अब तक 2625 संक्रमित

दीपक बाबरिया हटाए गए, मुकुल वासनिक मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रभारी नियुक्त

Tags: Coronavirus, Lockdown, Madhya pradesh news, Migrant Workers, Ministry of Home Affairs, Shivraj singh chouhan

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर